जातीय समीकरण साधने के लिए कोविंद को राष्ट्रपति बनाया : गहलोत

Amit Kumar Garg

Publish: Apr, 17 2019 06:20:17 PM (IST)

स्‍पेशल

जयपुर। गुजरात में हार के डर से रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति बनाया गया था। भाजपा को जातीय समीकरण साधने थे इसलिए लालकृष्ण आडवाणी राष्ट्रपति नहीं बन पाए और कोविंद राष्ट्रपति बन गए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यह बात बुधवार को यहां पीसी में कही। गहलोत ने कहा कि एक ओर जहां पाकिस्तान को लेकर चर्चा हो रही है वहीं पाकिस्तान भी सर्जिकल स्ट्राइक करता रहता है। उनके बयान पर बवाल मचने पर गहलोत ने टवीट कर सफाई दी तथा कहा, मेरे बयान को गलत तरीके से पेश किया गया। गहलोत ने कहा कि गुजरात के चुनाव आ रहे थे और घबराई भाजपा को लग रहा था कि उनकी सरकार वहां नहीं बनने जा रही है। मेरा ऐसा मानना है कि जातीय समीकरण बैठाने के लिए रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति बनाया और आडवाणी साहब छूट गए।
गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि मुझे इन पांच सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम करने का तरीका समझ नहीं आया। देश में अजीब माहौल है। मीडिया सच लिखने में घबरा रहा है। गहलोत ने कहा कि कांग्रेस सरकार कभी गलत आंकड़े नहीं देती। वहीं मोदी भाजपा सरकारों से झूठे आंकड़े मंगवाते हैं। गहलोत ने कहा कि जुमले भाजपा सरकार को ले डूबेंगे। गहलोत ने कहा कि देश में एंटी मोदी लहर चल रही है। बाद में राष्ट्रपति को लेकर दिए बयान पर बवाल मचने पर उन्होंने सफाई दी। गहलोत ने ट्वीट में कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ मीडिया हाउस मेरे बयान को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं। मैं व्यक्तिगत रूप से राष्ट्रपति कोविंद का बहुत आदर करता हूं। मैं उनकी सादगी और विनम्रता से बेहद प्रभावित हूं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned