जानिए किस तरह महार रेजिमेंट बढ़ाती आ रही है भारत माता का मान

Sanjay Sharma

Publish: May, 18 2019 09:00:00 AM (IST)

स्‍पेशल

सागर. देश की सीमा पर चौकसी के लिए तैनात भारतीय सेना को महार रेजिमेंट सेंटर ने 20 हजार से ज्यादा सैनिक दिए हैं। इन वीर जवानों ने राष्ट्र रक्षा के संकल्प के लिए मातृभूमि का अपने रक्त से कई बार न केवल तिलक किया है बल्कि शहादत को भी हंसते-हंसते गले लगाया है। रेजिमेंट ने न केवल वीर, जांबाज लड़ाके जवान भारतीय सेना को दिए हैं बल्कि देश को दो थल सेना अध्यक्ष देने वाली इस रेजिमेंट का इतिहास भी गौरवशाली रहा है। रेजिमेंट में दिए जाने वाले प्रशिक्षण के कारण पूरे देश की इन्फेंट्री बटालियनों में महार का नाम अव्वल माना जाता है। ईस्ट इंडिया कंपनी के जमाने से लेकर स्वतंत्रता और आज के आधुनिक भारत के सफर में रेजिमेंट का स्वरूप जहां निखरा है वहीं अत्याधुनिक अस्त्र- शस्त्रों के उपयोग ने यहां दिए जाने वाले प्रशिक्षण को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned