scriptmixed farming | बत्तख पालन कर बढ़ाएं लाभ | Patrika News

बत्तख पालन कर बढ़ाएं लाभ

धान-मक्का की खेती के साथ बत्तख पालन मिक्सड फार्मिंग कहलाता है। इसमें कम खर्च और लाभ अधिक होता है। मछली पालन के साथ बत्तख पालन से भी काफी फायदा होता है। ढाई सौ बत्तख प्रति एकड़ तालाब के हिसाब से मछली पालन के साथ मिक्स फार्मिंग कर सकते हैं।

जयपुर

Updated: June 02, 2022 12:57:33 pm

बत्तखों का प्रोटीन युक्त बीट मछलियों के लिए सीधे आहार का काम करता है। इससे मछलियों की वृद्धि और उत्पादन बढ़ जाता है। बत्तख की बीट के कारण मछली पालन की आहार लागत कम हो जाती है और लाभ बढ़ जाता है। इसी प्रकार खेतों और बगीचों में आहार तलाशते हुए बत्तख अपने खुरपीदार पंजों एवं चोंच से ना केवल कीड़े-मकोड़े की सफाई करते हैं, बल्कि निराई भी हो जाती है। इससे किसान को मदद मिलती है। अंडे के लिए बत्तख की खाकी कैंपबेल नस्ल सबसे अच्छी है। यह एक वर्ष में 300 तक अंडे देती है इसी प्रकार वाइट पैकिंग नस्ल मीट उत्पादन में अधिक उपयोगी है।
बत्तख पालन कर बढ़ाएं लाभ
बत्तख पालन कर बढ़ाएं लाभ
आहार और प्रजनन
बत्तख अपने भोजन की व्यवस्था आसपास के परिवेश से खुद ही कर लेते हैं। इसमें वानस्पतिक एवं कीडों को भोजन बनाते हैं। प्रजनन के लिए बत्तखों को पानी की आवश्यकता अनिवार्य है। १० मादा बत्तखों के प्रजनन के लिए एक नर पर्याप्त होता है। सामान्यत: बत्तखों को अंडे हैच करने में 28 दिन लगते हैं। यह चार पांच माह की उम्र से प्रारंभ कर दो से तीन वर्ष तक लगातार अंडे देती हैं। इनके नए चूजों को अलग रखकर नए समूह बनाते रहना चाहिए।
बिना तालाब के बत्तख पालन
बिना तालाब के भी बत्तख पालन किया जा सकता है। इसे पौंड लेस डक फार्मिंग कहते हैं। इसमें बत्तखों को किसी छप्पर या बगीचे के दड़बे में मुर्गीपालन की तर्ज पर पाला जा सकता है। गौरतलब है कि जलाशय के बिना बत्तख के दिए अंडों में गर्भाधान की क्षमता नहीं होती यानी अंडों का इस्तेमाल चूजा उत्पादन के लिए नहीं किया जा सकता।
बत्तख पालन के लाभ
बत्तखों की मृत्यु दर कम और शारीरिक वृद्धि दर अधिक होती है, जिससे ये कम समय व कम लागत में किसान को ज्यादा लाभ देती हैं। बत्तख का सफाई में बहुत योगदान होता है। मात्र 5-6 बत्तखें ही एक हेक्टेयर तालाब या आबादी के आसपास मच्छरों के लार्वा को खा जाती हैं। यह उच्च रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले होते हैं। इससे इनके रोग बचाव का खर्च भी कम होता है।
एक वर्ष में 300 अंडे
बत्तख की खाकी कैंपबेल नस्ल एक वर्ष में 300 अंडे देती है। यह नस्ल सबसे अच्छी मानी जाती है।
बत्तखों को अंडे हैच करने में 28 दिन लगते हैं। चार माह की उम्र से तीन वर्ष तक लगातार अंडे देती हैं।

अगली खबर

right-arrow

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Presidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के निवास पहुंचे एकनाथ शिंदेMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनKangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'उदयपुर हत्याकांड: आरोपियों के कराची कनेक्शन पर पाकिस्तान की बेशर्मी, जानिए क्या बोलाUdaipur Murder: उदयपुर में हिंदू संगठनों का जोरदार प्रदर्शन, हत्यारों को फांसी दो के लगे नारे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.