अब रेलवे जारी करेगा क्यूआर कोड वाले टिकट

-टिकट आरक्षण में ली जाएगी आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस की मदद

By: pushpesh

Published: 24 Jul 2020, 12:06 AM IST

नई दिल्ली. भारतीय रेलवे यात्रियों की सुविधा के लिए अपने समूचे यात्री टिकट सिस्टम में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। रेलवे की आरक्षण प्रणाली में आमूल-चूल बदलाव करके आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस आधारित सिस्टम तैयार किया जा रहा है और स्पर्श रहित चैकिंग के लिए क्यूआर कोड आधारित टिकट प्रणाली लायी जा रही है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने आज यहां संवाददाताओं को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरक्षण की पीआरएस प्रणाली में आमूल-चूल बदलाव किया जा रहा है।

वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस के आधार पर टिकट आरक्षण व्यवस्था होगी जिससे लोगों को अधिक से अधिक कन्फर्म टिकट मिल सकेंगे। आरक्षण की संभाव्यता आदि के बारे में भी पता लग सकेगा। रेलवे की कंपनी क्रिस पीआरएस सिस्टम एवं साफ्वेयर को आधुनिक बना रही है। बदलाव होने के बाद किस ट्रेन में कितनी वेटिंग है और किस ट्रेन में कौन-कौन से क्लास में आरक्षण उपलब्ध है, यात्री बड़े आसानी से देख सकेंगे। इसी तरह आइआरसीटीसी के जरिए बन रहे ऑनलाइन टिकट को भी और ज्यादा सरल बनाने की तैयारी की जा रही है। इसमें संबंधित स्टेशन का नाम डालते ही सभी गाडिय़ां और किस ट्रेन में सीट उपलब्ध है, उसका पूरा ब्यौरा सामने आ जाएगा। सरल होने के बाद यात्री आराम से टिकट बना सकेगा।

उन्होंने यह भी बताया कि आरक्षित, अनारक्षित एवं प्लेटफार्म, हर प्रकार के टिकट क्यूआर कोड वाले जारी किए जाएंगे ताकि स्पर्श रहित (कांटेक्ट लेस) टिकट चैकिंग सिस्टम की शुरुआत की जा सके। इसमें टीटीई यात्री के टिकट को हाथ में लेकर चेक करने की बजाय अपने मोबाइल फोन अथवा हैंडहेल्ड मशीन से स्कैन करके क्यूआर कोड के जरिए यात्री का पूरा ब्यौरा चेक कर सकेगा। ऑनलाइन टिकटों में क्यूआर कोड स्वत: सृजित होंगे और आरक्षण केंद्रों से टिकट बनवाने पर यात्रियों के मोबाइल पर एक ङ्क्षलक आएगा, जिसे खोलने पर क्यूआर कोड नजर आएगा। उन्होंने बताया कि रेलवे अब तक नौ क्षेत्रीय भाषाओं में टिकट जारी करना शुरू कर चुकी है। जल्द ही अन्य सभी भाषाओं में भी यह व्यवस्था शुरू हो जाएगी।

pushpesh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned