POST CORONA LIFE : खाली स्टेडियम में खेलेंगे खिलाड़ी, फैंस यूं घर बैठे करेंगे चीयर्स

-स्टेडियम में सामान्य मैचों की तरह सुनाई देगी दर्शकों की आवाज (Remote Cheerer app)

By: pushpesh

Published: 21 Jun 2020, 02:26 PM IST

टोक्यो. कोरोनावायरस के चलते दुनियाभर की खेल स्पर्धाओं को ग्रहण लग गया। कई देशों में खेलों को छूट भी मिली तो खाली मैदानों की शर्त पर यानी खिलाड़ी खाली मैदानों में खेल सकते हैं। स्वाभाविक है कि दर्शकों की तालियां और चीयर्स के बिना ना तो खेलों का रोमांच है और ना खिलाडिय़ों को अच्छा लगता है। तकनीक के तरकश में इसका हल भी मिल गया। मई में 50 हजार दर्शकों की क्षमता वाले जापान के सबसे बड़े स्टेडियम एकोप में ऐसे ही एक ऐप ‘रिमोट चीयरर’ का परीक्षण किया गया, जो स्टेडियम में जोर से दर्शकों की कमी महसूस नहीं होने देगा। इसके दर्शकों के चिल्लाने की आवाज, चीयर्स का अंदाज और वैसी ही आवाजें सुनाई देंगी, जो एक सामान्य मैच में होती है। ऐप को म्यूजिकल एंस्ट्रुमेंट बनाने वाली कंपनी यामाहा ने विशेष साउंड इफेक्ट के साथ तैयार किया है। ऐप को स्टेडियम में 52 विशाल साउंड सिस्टम से जोड़ा गया है ताकि आवाज हूबहू सामान्य मैचों जैसी सुनाई दे।

ऐसे काम करता है रिमोट चीयरर ऐप (How remote cheerler app works)
जापान के जे लीग क्लब और जुबिलो इवाटा के बीच ट्रायल मैच के दौरान दूर-दराज से यूजर्स ने स्मार्टफोन से चीयर्स, तालियां, शाबाशी और दूसरे भावपूर्ण उद्गार का ऑडियो भेजा। इतना ही नहीं फैन्स यह भी तय कर सकते हैं कि उनके ऑडियो स्टेडियम के किस हिस्से में डिलीवर हों। ट्रायल मैच के दौरान फैन्स ने गोल होने के बाद खिलाडिय़ों को वैसे ही चीयर्स किया, जैसे वे गोलपोस्ट से पीछे की पंक्ति में बैठे हैं।

खेल का जरूरी हिस्सा है प्रशंसकों का सपोर्ट
फुटबॉल क्लब एस-पल्स के जुनपेई तकाकी का कहना है कि मैदान में प्रशंसकों का शोर शराबा खेल का जरूरी हिस्सा है। पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी के रूप में मुझ अहसास है कि इससे खिलाडिय़ों को कितना सपोर्ट मिलता है।

अब हाइटेक खेलों का जमाना
अब खेलों का टेक ट्रांसफॉर्मेशन और बढ़ेगा। जापान में 5जी नेटवर्क विकसित कर लिया है और यह दर्शकों को और ज्यादा वास्तविक अहसास देगा। घर बैठे दर्शकों को वर्चुअल मैच दिखाने के लिए स्टेडियमों में कई उच्च क्षमता के कैमरे स्थापित किए जा रहे हैं। सॉफ्टबैंक के प्रवक्ता का कहना है कि हमारी चुनौती बिना दर्शकों के दर्शकों से जुडऩे की है। हम चाहते हैं कि दूर बैठे दर्शक भी मैच का असली जैसा आनंद उठाएं।

इसलिए जरूरी हैं दर्शक
ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग के एक अध्ययन में सामने आया कि लाइव गेम देखने से आर्थिक लाभ के अलावा प्रशंसकों की मौजूदगी घरेलू टीम की मदद करती है। इसके लिए शोधकर्ताओं ने यूरोपीय टीमों के प्रदर्शन के आधार पर की है। इसके मुताबिक घरेलू टीमों ने खाली स्टेडियम में 36 फीसदी मैच जीते हैं, जबकि फैंस की मौजूदगी में 46 फीसदी मैचों में फतह पाई।

Show More
pushpesh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned