scriptPoll again open regarding storage due to unseasonal rain | बेमौसम बारिश से भंडारण को लेकर फिर खुली पोल | Patrika News

बेमौसम बारिश से भंडारण को लेकर फिर खुली पोल

खुले में रखा जा रहा अनाज, नुकसान से बचाने के लिए नहीं हैं समुचित इंतजाम। निजी क्षेत्र पर निर्भरता पड़ रही है भारी।

जबलपुर

Updated: January 14, 2022 11:45:39 pm

बे मौसम बरसात और ओलों की बौछार ने प्रदेश के बड़े रकबे में खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा है। मौसम का मिजाज देखकर किसान अब भी सहमे हुए हैं। दूसरी ओर खरीदी केंद्रों पर खुले आसमान के नीचे पड़े टनों क्विंटल धान सहित दूसरे अनाज खराब होने के कगार पर पहुंच गए। बड़ा सवाल है कि लापरवाही के चलते हर साल करोड़ों का नुकसान होनेे के बावजूद जिम्मेदार इसे गम्भीरता से क्यों नहीं लेते? अनाज भंडारण की समुचित व्यवस्था क्यों नहीं की जाती? मौसम की मार से बचने के लिए खरीदी केंद्रों को शेड आदि से क्यों सुरक्षित नहीं किया जाता? यह दुर्भाग्यपूर्ण तस्वीर एक-दो जिलों की नहीं है। पूरे प्रदेश में अमूमन लापरवाही का यही आलम है। जबलपुर सहित सभी जिलों में भंडारण के लिए गोदामों की कमी हर साल सामने आ रही है। विकल्प के रूप में निजी क्षेत्र जरूर उभरा है, लेकिन, उस पर अधिक निर्भरता घाटे का ही सौदा साबित हो रहा है। मध्यप्रदेश वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के लगभग 40 गोदामों की क्षमता तकरीबन 70 हजार मीट्रिक टन है। ऐसे में निजी क्षेत्र के गोदामों में धान और गेहूं का भंडारण होता है। इन गोदामों को भंडारण शुल्क के रूप में हर वर्ष 60 से 70 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाता है। जबलपुर जिले में तो हमेशा अनाज के सुरक्षित भंडारण की कमी सामने आती है। खासकर धान को लेकर। क्योंकि, इसे केवल ढके भंडारण गृह या ओपन कैप में रखा जा सकता है। सायलो कैप में इसे रखने का प्रावधान नहीं है। गेहूं के लिए सायलो कैप उचित रहता है। आगामी सीजन के लिए भंडारगृहों की कमी है। ऐसे में दूसरे जिलों का मुंह ताकने की नौबत भी आती है। जिले में पहले ही 14 से 15 लाख मीट्रिक टन अनाज भंडारित है। हालत यह है कि जिले में जो वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के कृषि उपज मंडी, रिछाई व अन्य जगहों पर गोदाम हैं, उनका निर्माण 25 से 30 वर्ष पहले किया गया था। इनमें कुछ में तेंदूपत्ता रखा जाता था। कुछ ऐसे थे, जिनमें सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत अनाज रखा जाता था। उस समय इतनी कम खरीदी होती थी कि ये गोदाम भी खाली रहते थे। लेकिन, वर्ष 2007 के बाद समर्थन मूल्य पर गेहूं एवं धान की खरीदी शुरू हुई, तो ये गोदाम कम पडऩे लगे। जरूरत के हिसाब से नए गोदामों के निर्माण की मांग बार-बार उठाई जाती है। सरकार और जिम्मेदार अधिकारियों को इस दिशा में तत्काल कार्रवाई शुरू करनी चाहिए। (गो.ठा.)
Cereal storage crisis
Cereal storage crisis

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.