पति से ही सीखी रोबोटिक्स और बन गईं रोबोट मास्टर

जयपुर की नीलिमा मिश्रा ने रोबोटिक्स में अपनी पहचान बनाई है। उनके बनाए रोबोट आज कई क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। कोरोनाकाल में एसएमएस अस्पताल में उनके बनाए रोबोट नर्स ने काम किया था। मूलत: कम्प्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग करने वालीं नीलिमा को उनके पति भुवनेश मिश्रा ने रोबोटिक्स से रूबरू कराया था। उसके बाद उन्होंने इस क्षेत्र में अपने पति के सहयोग से आगे कदम बढ़ाया। उनके पति खुद रोबोटिक्स इंजीनियर हैं। जानते हैं नीलिमा की कहानी भुवनेश मिश्रा की जुबानी -

By: Neeru Yadav

Published: 20 Sep 2021, 11:25 PM IST

मैं एक ऐसी लड़की से शादी कराना चाहता था, जो जिंदगी के हर कदम पर मेरा साथ दे। चाहे परिवार की गाड़ी का स्टियरिंग संभालना हो या फिर करियर हो, इसलिए इंजीनियरिंग क्षेत्र की लड़की से ही शादी करने की इच्छा परिवार के सामने रखी। 2014 में जब नीलिमा से शादी हुई तो वह एमटैक की पढ़ाई कर रही थी। शादी के बाद मैंने उसे रोबोटिक्स के बारे में बताना शुरू किया और उसका इस क्षेत्र में कितना इंटरेस्ट है यह जानने की कोशिश करने लगा। उसकी भी धीरे-धीरे इस क्षेत्र में दिलचस्पी बढऩे लगी। रोबोटिक्स के कंसेप्ट क्लियर होने के बाद नीलिमा ने स्टूडेंट्स को टेलीपैथी सिखाना शुरू कर दिया। उसके बाद हम दोनों ने रोबोटिक्स को लेकर खुद की ही कंपनी शुरू करने के बारे में सोचा। रोबोट की मैन्युफैक्चरिंग से लेकर रोबोट गैलेरी संभालने तक की जिम्मेदारी अब वह खुद बखूबी संभालती है। उसके अंदर सीखने की ललक और कुछ करने के जज्बे ने ही उसे एक मुकाम तक पहुंचाया। मैंने तो बस उसे एक रास्ता दिखाया था।
कार का स्टियरिंग पकडऩा भी सिखाया
मैं अपने करियर में आगे बढ़ सकूं। मेरी अपनी व्यक्तिगत स्वतंत्रता हो। इसका मेरे पति औैर परिवार ने पूरा ख्याल रखा है। मुझे कार चलाने से डर लगता था। मैं स्कूटर से आने-जाने में सहज महसूस करती थी, लेकिन मेरे पति ने मुझे समझाया और उन्होंने ही कार चलाना सिखाया।
नीलिमा मिश्रा, एंटरप्रेन्योर

Neeru Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned