Tamilnadu News: कोई लौटा दे मेरा बचपन थीम पर ताजा की पुरानी यादें

Tamilnadu News: कोई लौटा दे मेरा बचपन थीम पर ताजा की पुरानी यादें
Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College,Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College,Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College,Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College,Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College,Tamilnadu News: Chennai, Education, Kanyka Parmeswari College

Ashok Rajpurohit | Updated: 23 Sep 2019, 08:14:19 PM (IST) स्‍पेशल

कन्यका परमेश्वरी कला एवं विज्ञान महाविद्यालय (College) में लहर हिंदी (Hindi) समिति का कार्यक्रम

चेन्नई. साहुकारपेट के श्री कन्यका परमेश्वरी कला एवं विज्ञान महिला महाविद्यालय के लहर हिंदी समिति के तत्वावधान में दो दिवसीय वार्षिक समिति एवं हिंदी दिवस मनाया गया। हिंदी समिति में बचपन थीम पर आधारित प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। बचपन की यादें बटोरते हुए छात्राओं ने चित्र पेश किए। जिनका सजावट के लिए उपयोग किया गया। मद्रास उच्च न्यायालय के अधिवक्ता नरेन्द्र भंसाली मुख्य अतिथि थे।

बचपन को किया याद
चित्रकला में रंग उकेर कर छात्राओं ने अपने बचपन एवं बीते पलों को ताजा किया। छात्राओं ने बचपन के परिधान पहन कर लाजवाब प्रस्तुति दी। रानी, संतोष एवं नीता की प्रस्तुति सराहनीय रही।

कराया चेतना का बोध
महाविद्यालय में हिंदी दिवस के मौके पर छात्राओं के भाषा के प्रति चेतना का बोध कराया गया। वलियमाल महाविद्यालय की हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कवयित्री डॉ. मंजू रूस्तगी ने मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहते हुए हिंदी की उपयोगिता पर प्रकाश डाला।

आयोजन में सहयोग
महाविद्यालय की उपाचार्य एवं हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. वनिता, हिंदी प्राध्यापिका डॉ. मधु विनय, हिंदी विभाग की सचिव अंजली, अमिषा त्रिपाठी, कांता कुमारी ने आयोजन में सहयोग किया। प्रतिमा कुमारी व मयूरी ने कार्यक्रम का संचालन किया।

शब्दों से चित्र बनाने की प्रतियोगिता
विद्यार्थियों के लिए मिस हिंदी, चैनल सर्फिंग, अहिंदी भाषियों के लिए चित्राक्षर, यानी हिंदी वर्णमाला के शब्दों से चित्र बनाने की प्रतियोगिता का आयोजन किया।

प्रतिमा कुमारी मिस हिंदी
मिस हिंदी प्रतियोगिता की विजेता प्रतिमा कुमारी बनीं। हिंदी विभाग की सचिव अमिषा त्रिपाठी ने स्वरचित कविता सुनाई।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned