STUDY : अवशोषित करने की बजाय धीरे-धीरे ये जहरीले रसायन छोड़ रहे हैं महासागर

-ओजोन परत को नुकसान पहुंचा सकती है समुद्र से निकला क्लोरोफ्लोरो कार्बन

By: pushpesh

Published: 24 Mar 2021, 11:25 PM IST

महासागर क्लोरोफ्लोरो कार्बन या सीएफसी सहित कई तरह की गैसों के विशाल भंडार हैं। दरअसल समुद्र वायुमंडल से इन गैसों को अवशोषित कर नीचे की ओर खींचते हैं, जहां गैसें सदियों या उससे भी अधिक समय तक रह सकती हैं। क्लोरोफ्लोरोकार्बन या सीएफसी गैस ओजोन परत को नुकसान पहुंचाती है। सीएफसी का अब तक समुद्री अध्ययन के रूप में उपयोग होता रहा है, लेकिन वायुमंडल पर इसके प्रभाव को ना के बराबर माना जाता था। अब मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने बताया है कि ओजोन को हानि पहुंचाने वाले जिन शक्तिशाली केमिकल्स को समुद्र अब तक अवशोषित कर रहे थे, अब इसे उत्सर्जित कर रहे हैं।

कैमिकल घटाने पर हो चुकी है संधि
ओजोन एक वायुमंडलीय परत है जो पृथ्वी को पराबैंगनी विकिरण से बचाती है। मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तहत ओजोन परत को बचाने के लिए सीएफसी के उत्पादन को चरणबद्ध तरीके से कम करने पर वैश्विक संधि हुई है।

किस काम आता है क्लोरोफ्लोरो कार्बन
सीएफसी -11 अर्थात क्लोरोफ्लोरोकार्बन का इस्तेमाल आमतौर पर रेफ्रिजरेंट और इंसुलेटेड फोम बनाने के लिए किया जाता था। जब यह वातावरण में उत्सर्जित होती है, तो एक रासायनिक शृंखला बनाती है, जो अंतत: ओजोन के लिए विनाशकारी है।

Show More
pushpesh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned