अबॉर्शन के बाद क्या होता है अजन्मे बच्चे का हाल, हकीकत जानने के बाद खड़े हो जाएंगे रोंगटे

फिलिसिया कैश नाम की एक महिला ने सोशल मीडिया पर अपने अबॉर्शन का एक्सपीरियंस शेयर किया है।

By: Ravi Gupta

Published: 13 Mar 2018, 03:43 PM IST

नई दिल्ली। किसी भी महिला के लिए मां बनना उसके जीवन का सबसे सुखद एहसास होता है। अपनी कोख से जन्मे बच्चे को हर मां इतना प्यार करती है कि दुनिया की सारी खुशियां भी उसे कम लगने लगती हैं। लेकिन कभी-कभी महिलाओं को वो अजन्मा बच्चा अबोर्ट कराना पड़ जाता है। अबोर्ट कराने के पीछे कई बातें होती हैं, जिसमें अमूमन कन्या भूण हत्या का मामला होता है। इसके अलावा कई बार स्थिति ऐसी हो जाती है कि महिला का अबॉर्शन हो जाता है। लेकिन आपको पता है कि बच्चा दुनिया में नहीं आया, उसका आखिर होता क्या है... आज हम आपको बताएंगे उस अजन्में बच्चे के बारे में...

newly born dead,child dies,child,abortion,girl child,The Mother,

फिलिसिया कैश नाम की एक महिला ने सोशल मीडिया पर अबॉर्शन के बारे में बताया है। फिलिसिया ने बताया कि अबॉर्शन के दौरान न सिर्फ मां को बल्कि बच्चे को भी काफी दर्द सहना पड़ता है। जिन लोगों को ये लगता है कि ये बहुत आसान प्रोसेस है उन्हें पता होना चाहिए कि ये दुनिया का सबसे कष्ट दायक काम है। फिलिसिया अपने सोशल अकाउंट के जरिए बताती हैं कि कई लोगों को लगता है कि बच्चा जब मां के गर्भ में आता है। उसके कई दिनों बाद उसकी धड़कनें शुरू होती हैं। जबकि जैसे ही बच्चा गर्भ में आता है उसकी धड़कनों का विकास शुरू हो जाता है।

newly born dead,child dies,child,abortion,girl child,The Mother,

फिलिसिया ने अपना एक्सपीरियंस शेयर करते हुए लिखा था कि साल 2014 के जुलाई महीने में उनका मिसकैरेज हो गया था। जिस वजह से उनके गर्भ के अंदर 14 हफ़्तों और 6 दिन का बच्चा बिना जन्म लिए ही मर गया था। यही नहीं फिलिसिया बताती हैं कि उन्होंने तो अपने बेटे का नाम भी रख लिया था। वह बताती हैं कि उसके पैरों की उंगलियां और अंगूठा भी बन चुकीं थी। यही नहीं उसकी खाल भी आने लगी थी। कह सकती हूं कि उसका पूरा शरीर बनने लगा था। डॉक्टर्स भी कहा करते थे कि अगर वो जन्म लेता तो बेहद ही सुंदर बच्चा होता।

फिलिसिया बताती हैं कि अस्पतालों में अबॉर्शन को सैलाइन अबॉर्शन कहते हैं। इसमें एक महिला के गर्भ में एक लिक्विड डाला जाचा है। ये लिक्विड एक तरह का ज्वलीनशील होता है। वह इसलिए क्योंकि इसी लिक्विड के जरिए बच्चे के फ़ेंफड़े और स्किन पूरी तरह से जल जाती है। जिसके बाद वो महिला उस मरे हुए बच्चे को जन्म देती है। जिसके बाद वह मरा हुआ बच्चा कोख से बाहर आता है। लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि जिंदा बच्चा बाहर आ जाता है। जो पूरी तरह से जला हुआ होता है। फिर सभी उसे मरने के लिए छोड़ देते हैं।

Ravi Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned