scriptदुकानें बंद होने के बाद रातभर छोटी खिड़की से दोगुना दाम मिल जाती है शराब | After the shops close, the liquor is available at double the price from the small window throughout the night. After the shops close, the liquor is available at double the price from the small window throughout the night. | Patrika News
खेल

दुकानें बंद होने के बाद रातभर छोटी खिड़की से दोगुना दाम मिल जाती है शराब

रानी लक्ष्मी समाधि के पास स्थित शराब दुकान, जो रात को 11.30 बजे के बाद आधा शटर गिराकर शराब की बिक्री करता रहता है।

ग्वालियरJun 05, 2024 / 10:14 pm

राहुल गंगवार

ग्वालियर. रात को 11 बजे के बाद आपको दवा और रोजमर्रा से जुड़ी किसी चीज की जरुरत हो तो शायद आपको अगले दिन का इंतजार करना होगा, लेकिन शराब आपको पूरी रात मिल जाएगी। शराब दुकानों को बंद करने का समय रात 11.30 बजे तय है, लेकिन शराब दुकानदार रात 12 बजे तक शटर डाउन कर शराब खुलेआम बेच रहे हैं। दुकान बंद भी हो जाए तो ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं है, बस डेढ़ गुना अधिक रुपए देने होंगे और दुकान के पीछे बनी छोटी खिडक़ी से शराब मिल जाएगी। शराब दुकान के संचालक नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं, लेकिन आबकारी विभाग गहरी नींद में सो रहा है। इसलिए प्रशासन की नाक के नीचे पूरी रात शराब की धड़ल्ले से बिक्री होती है।
रात को शटर डाउन, लेकिन बिक्री चालू
नियमानुसार शहर में शराब दुकानें रात 11:30 बजे बंद हो जाती हैं, लेकिन कोई चेकिंग नहीं करता है, इसलिए कुछ दुकानें रात 12 बजे तक ही बंद होती हैं। लेकिन इन दुकानों के शटर गिरने के बाद भी बिक्री चालू रहती है। शराब ठेकेदारों ने दुकान के पीछे एक छोटी सी खिडक़ी बना रखी है, यहां से रातभर आपको शराब मिल जाएगी।
कंट्रोल रूम बेखबर, कुछ ही दूरी पर रातभर हो रही बिक्री
आबकारी विभाग के संभागीय और जिला कार्यालय पड़ाव से थोड़ी ही दूरी पर रातभर अवैध रूप से शराब की बिक्री होती है। यहां आबकारी विभाग का कंट्रोल रूम भी है, लेकिन कुछ ही दूरी लक्ष्मणपुरा और रानी लक्ष्मीबाई समाधि के पास रातभर शराब बिकती है, यह जानकारी विभाग को नहीं है। जबकि मुखबिरों की सूचना पर आबकारी टीम 60 से 70 किलोमीटर दूर डबरा और भितरवार के जंगलों तक अवैध शराब पकड़ लगाती है।
सिर्फ खानापूर्ति के लिए निकली है टीम
आबकारी विभाग के कंट्रोल रूम में शाम को ताले डल जाते हैं। यहां शिकायत सुनने वाला कोई नहीं मिलता है। रात को आबकारी टीम चेकिंग पर भी नहीं निकली है, जिससे दुकानदार बेफिक्र होकर शराब बेचते हैं। आबकारी टीम सिर्फ नया साल, होली, दीपावली के समय ही दुकानों और बार की चेकिंग करने निकलती है, इसके अलावा कभी चेकिंग नहीं करती है। दुकानों के अलावा हाई-वे के ढाबों और रेस्टोरेंट पर खुलेआम शराब पिलाई जा रही है, जिन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।
राजेश कुर्मी, जिला आबकारी आयुक्त ग्वालियर
प्रश्न:
शहर की शराब दुकानें निर्धारित समय पर बंद नहीं होती है क्या कारण है?
जवाब: ऐसी कोई शिकायत नहीं आई कि दुकानें निर्धारित समय पर बंद नहीं हो रही है। यदि शिकायत आएगी तो कार्रवाई करेंगे।
प्रश्न: हर दुकान के पीछे छोटी सी खिडक़ी से रातभर शराब बिकती है?

जवाब- जानकारी नहीं है, कार्रवाई करेंगे।
प्रश्न: आबकारी विभाग रात में चेकिंग क्यों नहीं करता है?

शिकायत आती है तो कार्रवाई करते हैं। ऐसी दुकानों की चेकिंग करेंगे।

Hindi News/ Sports / दुकानें बंद होने के बाद रातभर छोटी खिड़की से दोगुना दाम मिल जाती है शराब

ट्रेंडिंग वीडियो