गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने परवेज रसूल समेत इन कश्मीरी खिलाड़ियों को किया सम्मानित

कार्यक्रम के दौरान राजनाथ ने प्रमुख खिलाड़ियों परवेज रसूल (क्रिकेट), मंजूर अहमद पांडव (क्रिकेट), मेहराजुद्दीन वाडू (फुटबॉल), रियल कश्मीर क्लब (फुटबॉल), पलक कौर (जिम्नास्टिक) और बलवीन कौर (जिम्नास्टिक) को सम्मानित किया।

By:

Published: 07 Jun 2018, 07:17 PM IST

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरूवार को यहां खेल सम्मेलन में हिस्सा लिया और राज्य के कई प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को सम्मानित किया। राजनाथ श्रीनगर के खेल सम्मेलन में शामिल हुए। इस सम्मेलन में जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के 3000 खिलाड़ियों, छात्रों तथा उत्साही लोगों ने भाग लिया। इस अवसर पर जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (डोनर) राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत व पेंशन, परमाणु ऊर्जा व अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह तथा केंद्रीय गृह सचिव राजीव गावा भी उपस्थित थे।

200 करोड़ रुपये की धनराशि की गई आवंटित-
कार्यक्रम के दौरान राजनाथ ने प्रमुख खिलाड़ियों परवेज रसूल (क्रिकेट), मंजूर अहमद पांडव (क्रिकेट), मेहराजुद्दीन वाडू (फुटबॉल), रियल कश्मीर क्लब (फुटबॉल), पलक कौर (जिम्नास्टिक) और बलवीन कौर (जिम्नास्टिक) को सम्मानित किया। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ ने इस अवसर पर कहा कि पीएमडीपी कार्यक्रम के तहत जम्मू-कश्मीर में खेलों के अवसंरचना विकास के लिए 200 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की गई है।

कश्मीर के 22 जिलों में स्टेडियम का निर्माण-
44 करोड़ रुपये की लागत से बक्शी स्टेडियम के पुनरुद्धार का कार्य शुरू हो गया है। 40 करोड़ रुपये की लागत से मौलाना आजाद स्टेडियम, जम्मू का विकास किया जाएगा। जम्मू-कश्मीर के सभी 22 जिलों में स्टेडियम का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनकी कुल लागत 88 करोड़ रुपये है। 6 करोड़ रुपये की लागत से मनसर और पहलगाम में वाटर स्पोटर्स की आधारभूत संरचना विकसित की जा रही है।

पूरे देश का भविष्य युवाओं के हाथ- राजनाथ
राजनाथ ने युवाओं से कहा कि केवल जम्मू-कश्मीर का ही नहीं, बल्कि पूरे देश का भविष्य उनके हाथों में है। उन्होंने कहा कि केवल खेलों की करामात और तालीम की ताकत से ही उम्मीद का उजाला कायम हो सकता है। गृह मंत्री ने आश्वस्त करते हुए कहा कि भारत ने जम्मू-कश्मीर के युवाओं का भविष्य हमेशा सुरक्षित रखा है और आगे भी सुरक्षित रखेगा।

विनाश का रास्ता छोड़े युवा- राजनाथ सिंह
राजनाथ सिहं ने आगे कहा कि वर्षों से कुछ ताकतें राज्य के युवाओं को दिग्भ्रमित करने का प्रयास कर रही हैं। इन ताकतों का कोई लगाव आपके भविष्य से नहीं है। भारत के विकास और प्रगति में जम्मू-कश्मीर के युवाओं की भूमिका और योगदान वैसा ही है, जैसा देश के किसी अन्य राज्य के युवाओं का है। उन्होंने युवाओं से विनाश का रास्ता छोड़ तरक्की का मार्ग चुनने की अपील की।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned