Tokyo Olympics 2020: मेडल जीतने के लिए एथलीट क्या कुछ नहीं करते, देखिए इन तस्वीरों में

Tokyo Olympic 2020: एथलीट ओलंपिक में मेडल जीतने के लिए किस कदर मेहनत करते हैं यह देखने के लिए ये तस्वीरें ही काफी है जिससे आप यह जान सकते है कि सफलता के पीछे कितनी मेहनत छुपी होती है|

By: Braj mohan Jangid

Updated: 31 Jul 2021, 05:49 PM IST

नई दिल्ली। Tokyo Olympic 2020: हर 4 साल में एक बार होने वाले ओलंपिक खेलों का आयोजन इस साल जापान की राजधानी टोक्यो में हो रहा है। मगर जापान फिर भी मेडल जीतने की सूची में दूसरे स्थान पर काबिज हैं। वही चाइना लिस्ट में सबसे टॉप पर हैं। दुनिया भर में सुपरपावर कहलाने वाला अमेरिका लिस्ट में तीसरे स्थान पर हैं। हर एक खिलाड़ी का सपना ओलंपिक में खेलने का होता है वह सपने को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत करता है। यह मेहनत लोग देख नहीं पाते उनको बस उनके द्वारा हासिल किया गया मेडल ही दिखता है। असल में उस मेडल हासिल करने के पीछे सालों की मेहनत लगती हैं।

हम इस खबर में कुछ ऐसी तस्वीरें दिखाएंगे जिससे आपको एहसास होगा कि एक एथलीट ओलंपिक में मेडल जीतने के लिए क्या कुछ नहीं करता।

Read more:-Tokyo Olympics 2020: महिला हॉकी टीम ने साउथ अफ्रीका को 4-3 से हराया, क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद कायम

1. हिडिलिन डियाज़ (Hidilyn Diaz) - हिडिलिन, फिलिपींस की पहली महिला वेटलिफ्टर है जिसने टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल हासिल किया है। आप हिडिलिन के हाथों की दशा देखकर अंदाजा लगा सकते हैं कि इस वेटलिफ्टर ने गोल्ड मैडल हासिल करने के लिए किस कदर मेहनत की हैं। एकबारगी तो हिडिलिन के हाथ मजदूरों के हाथों से लगेंगें, और लगने भी चाहिए। अमूमन मेहनत करने वालों के हाथ ऐसे ही होते हैं।

Read more:- Tokyo Olympics 2020 : डिस्कस थ्रो में कमलप्रीत कौर फाइनल में पहुंचीं, मेडल की उम्मीद बढ़ी

Tokyo Olympic 2020

2. नादिया कोमानेच (Nadia Comaneci)

रोमानिया में पैदा हुई नादिया ओलिंपिक इतिहास की पहली जिम्नास्टिक प्लेयर हैं जिसने 14 साल की उम्र में पहला परफेक्ट 10 हासिल किया था।

Read more:- Tokyo olympics 2020 : अमित पंघल ने किया निराश, प्री-क्वार्टर फाइनल में युबेर्जेन रिवास से हारे

Nadia Comaneci

3. Janez Brajkovic - पूर्व विश्व चैंपियन साइकिल राइडर janez के पैरों की दशा इस कदर हो गई है जैसे वह पैरों की किसी बीमारी से ग्रसित हो। मगर असल में उनके पैरों की यह दशा उनकी मेहनत की वजह से हुई है। कुछ साइकिल चालकों के पैरों में ज्यादा साइकिल चलाने से पैरों की नसों में गांठे सी पड़ जाती है। नसे फुलकर पैर में अलग से दिखने लगती। कोई भी खिलाड़ी ओलंपिक में मेडल हासिल करने के लिए जो मेहनत करता है वह कहीं ना कहीं इनको शारीरिक तौर पर मजबूत बनाती हैं।

Read more:- Tokyo Olympics 2020 : ओलंपिक स्वर्ण जीतने पर पुरुष हॉकी खिलाड़ी को मिलेंगे 2.25 करोड़ रुपए

Tokyo Olympic 2020
Braj mohan Jangid
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned