46 लाख रुपए गबन केआरोपी को संविदा पर नियुक्ति

Krishan Ram | Updated: 26 Jul 2019, 11:44:06 AM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

46 लाख रुपए गबन केआरोपी को संविदा पर नियुक्ति

डाबला ग्राम सेवा सहकारी समिति का मामला: आज तक कोई कार्रवाई नहीं की, बैंक के प्रबंध निदेशक ने मुकदमा दर्ज करवाने के लिए किया निर्देशित
श्रीगंगानगर. डाबला ग्राम सेवा सहकारी समिति (Dabla Gram Seva Cooperative Committee) के पूर्व व्यवस्थापक राजाराम बेनीवाल ने समिति में गड़बड़ी करते हुए 46 लाख रुपए से अधिक राशि का गबन कर लिया। समिति प्रबंधनने आज तक आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, उल्टा सेवानिवृति के बाद उसे संविदा पर रख लिया। अब दी गंगानगर केंद्रीय सहकारी बैंक शाखा जैतसर ने समिति के अध्यक्ष पलविंद्र सिंह सैनी निवासी 2 एलसी को तत्कालीन व्यवस्थापक ( Managing director) राजाराम बेनीवाल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज ( file ) कराने के लिए निर्देशित किया है। समिति में गबन व वित्तीय अनियमितताओं को लेकर तीन साल से मामला सुर्खियों में है। समिति में गबन का यह मामला 2016-17 में सामने आया था। उस समय कई किसानों ने शिकायत की थी कि समिति व्यवस्थापक राजाराम बेनीवाल ने उनके फर्जी हस्ताक्षर कर,उनके नाम से बिना ब्याज फसली ऋण (rajasthan patrika news) उठाकर राशि का गबन कर लिया। इसमें बैंक स्टाफ की मिलीभगत की भी आशंका जताई जा रही है। शिकायत के आधार पर बैंक ने मामले की जांच के लिए व्यवस्थापक को रिकॉर्ड पेश करने के लिए निर्देशित किया, तो आरोपी व्यवस्थापक ने जांच अधिकारी को रिकॉर्ड ही उपलब्ध नहीं करवाया । जुलाई 2017 को समिति व्यवस्थापक राजाराम सेवानिवृत हो गया, फिर भी आज दिनांक तक सारा रिकार्ड उसके कब्जे में है। इस प्रकरण से प्रभावित हुए समिति के किसानों की मांग पर बैंक प्रबंध निदेशक भूपेंद्र सिंह ने गुरुवार को डाबला ग्राम सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष को पत्र लिखकर 15 दिन में राजाराम बेनीवाल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने के लिए निर्देशित किया है।

बैंक की ऑडिट में हुआ खुलासा--जीकेएसबी के अधिकारियों का कहना है कि समिति की वर्ष 2018-19 की ऑडिट रिपोर्ट में ऑडिटर ने डाबला ग्राम सेवा सहकारी समिति में 46 लाख 79 हजार 418 रुपए के गबन की पुष्टि की है। इसके लिए समिति व्यवस्थापक ( sriganganagar hindi news) राजाराम बेनीवाल को दोषी माना है।

132 किसान योजना के लाभ से हो गए वंचित

ऋण माफी योजना 2018 में इस समिति के 132 सदस्य किसान से योजना से वंचित रह गए। बैंक का मानना है कि ये वही लोग हैं, जिनके नाम से व्यवस्थापक राजाराम ने ऋण उठा कर राशि का गबन कर लिया। इन किसानों को कई वर्ष पूर्व थोड़ी-थोड़ी राशि ऋण के रूप में दी गयी थी। बाद में राजाराम वर्ष-दर-वर्ष इनके खातों में ऋण राशि बढ़ाता गया और कूटरचित दस्तावेज तैयार कर स्वयं ही सारी राशि हड़प कर गया। किसानों को इसकी सूचना तक नहीं मिली।

... तो होगी एफआईआर

ग्राम सेवा सहकारी समिति डाबला के सेवानिवृत व्यवस्थापक राजाराम बेनीवाल के खिलाफ ऑडिट में 46 लाख रुपए के गबन की पुष्टि हुई है। अब समिति अध्यक्ष को बेनीवाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने के लिए पत्र लिखा है।

भूपेंद्र सिंह ज्याणी, प्रबंध निदेशक,जीकेएसबी श्रीगंगानगर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned