नरमा-कपास में सफेद मक्खी से सावधानी की सलाह

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: vikas meel

Published: 24 Jul 2018, 08:56 PM IST

श्रीगंगानगर.

खरीफ की प्रमुख फसलों में शामिल नरमा-कपास में विशेष सावधानी का समय आ गया है, लापरवाही से नुकसान है। सफेद मक्खी के लिए मौसम अनुकूल होने के कारण उसका प्रकोप होने लगा है। इसे देखते हुए किसानों को समय रहते, नीम आधारित छिड़काव का सहारा लेना चाहिए।

छात्राएं हुई परेशान...पांच दिन से साइट ठप होने से प्रवेश की प्रक्रिया पर ब्रेक

कृषि विभाग के मुताबिक कपास की फसल बढ़वार की ओर है, किसानों को खेत का नियमित निरीक्षण करना चाहिए और किसी प्रकार की असामान्य स्थिति नजर आते ही कृषि विभाग के नजदीकी अधिकारी और कृषि वैज्ञानिकों से सम्पर्क कर सिफारिश के अनुसार जरूरी उपाय करने चाहिए।

यात्रियों के डिब्बे छोड़ दो किमी आगे चला गया ट्रेन का इंजन, मची अफरा-तफरी

पहले कई बार सफेद मक्खी कपास उत्पादकों के लिए परेशानी का सबब बन चुकी है। इसकी वजह से उत्पादन और गुणवत्ता घटी थी, उत्पादन लागत बढ़ी थी। पुराने अनुभव को ध्यान में रखते हुए संयुक्त निदेशक विजेंद्रसिंह नैण ने श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले के अधिकारियों को सफेद मक्खी के संबंध में अतिरिक्त सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। विभाग की गोष्ठियां आदि में इस बारे में अलग से बताया जा रहा है।

हत्या के मामले में दोषी को आजीवन कारावास

खरपतवार ना पनपने दें

दूसरी तरफ, कृषि अनुसंधान केंद्र की मंगलवार को जारी मौसम आधारित कृषि साप्ताहिकी में भी कपास में सावधानी रखने की सलाह दी गई है। इसके मुताबिक नरमा-कपास में कहीं-कहीं सफेद मक्खी दिखाई देने लगी है। खेतों का नियमित निरीक्षण करना चाहिए और आर्थिक हानि स्तर (8-12 सफेद मक्खी प्रति पत्ती) की स्थिति में नीम आधारित छिड़काव करना चाहिए। सफेद मक्खी की रोकथाम के लिए 32 से 48 पीले रंग का ट्रेप प्रति हेक्टेयर प्रयोग लेना चाहिए। देशी कपास में खरपतवार नहीं पनपने देना चाहिए।

प्रदूषण मामले की जांच के लिए कमेटी गठित

श्रीगंगानगर- हनुमानगढ़ में बुवाई

बीटी कॉटन-186806 हे.
नरमा-19602 हे.

देशी कपास-7421 हे.

Show More
vikas meel
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned