प्रशासन तथा व्यापारियों की मध्यस्थता के बाद मजदूर संगठनों में समझौता, चार दिन से बंद पड़ा गेंहू का उठाव शुरू

प्रशासन तथा व्यापारियों की मध्यस्थता के बाद मजदूर संगठनों में समझौता, चार दिन से बंद पड़ा गेंहू का उठाव शुरू

Jai Narayan Purohit | Publish: May, 25 2019 07:36:06 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

अनूपगढ़.

कस्बे की धान मंडी में मजदूर संगठन सीटू तथा भारतीय मजदूर संघ में चल रहे विवाद के कारण पिछले चार दिन से बंद पड़ा गेहूं का उठाव शनिवार को प्रशासन और व्यापारियों की मध्यस्थता के बाद शुरू हो गया।

मिली जानकारी के अनुसार धान मंडी में भारतीय खाद्य निगम की ओर से खरीद किया जाने वाला गेंहू राजस्थान स्टेट वेअर हाउस में रखा जाता था। धान मंडी से ट्रक तथा ट्रॉलियों के माध्यम से आने वाले गेंहू को वेअर हाउस में सीटू के मजदूर खाली करते थे।

वर्तमान में वेअर हाउस के गोदाम भर जाने के कारण गेंहू का भण्ड़ारण नई धान मंडी में शैड़ों के नीचे किया जाने लगा। इस पर भारतीय मजदूर संघ के मजदूरों ने शैड के नीचे खाली होने वाले ट्रक तथा ट्रॉलियों को सीटू के मजदूरों से खाली कराने पर एतराज जताते हुए गेंहू का उठाव बंद कर दिया।

विवाद के निस्तारण के लिए चार दिन तक नई धान मंडी में व्यापारियों तथा प्रशासन की दोनों मजदूर संगठनों से वार्ताएं चलती रही लेकिन सिरे नहीं चढ़ी। इस कारण गेंहू का उठाव बंद रहा।

शनिवार को व्यापार मंडल अध्यक्ष भजन कामरा, भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष मोहित छाबड़ा, व्यापार मंडल कोषाध्यक्ष मोहन बजाज, निदेशक रामेश्वर भुंवाल, नगरपालिका में प्रतिपक्ष के नेता सतपाल मुंजाल, भारतीय किसान संघ के बब्बू बहोलिया तथा प्रभुदयाल बावरी व्यापार मंडल पहुंचे और भारतीय मजदूर संघ के श्रमिकों के साथ बैठक की।

बैठक में निर्णय लेकर प्रशासन से वार्ता के लिए उपखंड कार्यालय पहुंचे। वहां उपखंड अधिकारी की उपस्थिति में भारतीय मजदूर संघ तथा सीटू के सदस्यों और व्यापारियों में तर्क-वितर्क हुई। उपखंड अधिकारी ने सामांजस्य बनाने का आह्वान किया। इसके बाद व्यापारी, दोनों मजदूर संगठनों के पदाधिकारी तथा भाजपा से जुड़े प्रमुख लोग उपखंड कार्यालय के बाहर बातचीत कर दोबारा उपखंड अधिकारी के पास पहुंचे।

उन्होंने उपखंड अधिकारी को बताया कि दोनों संगठनों ने निर्णय किया है कि शैड के नीचे उतरने वाले गेंहू का 60 प्रतिशत सीटू तथा 40 प्रतिशत भारतीय मजदूर संघ से जुड़े मजदूरों की ओर से खाली करवाया जाएगा। उन्होंने उपखंड अधिकारी को बताया कि यह निर्णय केवल इसी सीजन के लिए लागू होगा। इस अवसर पर सीटू यूनियन के सुनील गोदारा, राजू चलाना, व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष बूलचंद चुघ तथा राजीव डांग सहित अन्य व्यापारी तथा मजदूर मौजूद थे। गौरतलब है कि शुक्रवार को भी प्रशासन की मध्यस्थता में एक बैठक का आयोजन किया गया था। इसमें विवाद का एक बार तो निस्तारण हो गया था तथा गेंहू का उठाव भी दुबारा शुरू हो गया था, लेकिन दुबारा विवाद होने पर 15 हजार बैग का उठाव होने के बाद उठाव फिर बंद कर दिया गया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned