राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अलावा अन्य विशेष श्रेणी व प्रवासियों का होगा सर्वे

-राज्य सरकार की खाद्यान्न देने की मंशा, सर्वे के लिए उपखंड अधिकारी सहित नौ सहायक प्रभारी लगाए

By: Krishan chauhan

Published: 28 May 2020, 09:43 AM IST

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अलावा अन्य विशेष श्रेणी व प्रवासियों का होगा सर्वे

-राज्य सरकार की खाद्यान्न देने की मंशा, सर्वे के लिए उपखंड अधिकारी सहित नौ सहायक प्रभारी लगाए

श्रीगंगानगर. लॉकडाउन में 65 दिनों से कोई काम-धंधा नहीं चल रहा है। बहुत से ऐसी श्रेणियों व प्रवासी लोग हैं, इनके समक्ष अब भोजन का संकट खड़ा हो गया है। इन परिवारों की मदद करने के लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग राज्य के हर जिले में सर्वे करवा रही है। इनमें राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अलावा अन्य विशेष श्रेणी व प्रवासियों को सर्वे में शामिल किया जाना है। जिला कलक्टर ने उपखण्ड स्तर पर एसडीएम को प्रभारी अधिकारी तथा सर्वे कार्य में सहयोग के लिए नौ सहायक प्रभारी अधिकारी लगाए हैं। एसडीएम गंगानगर के सहयोग के लिए बीडीओ गंगानगर व आयुक्त नगरपरिषद तथा एसडीएम सूरतगढ़ के सहयोग के लिए बीडीओ सूरतगढ़ व अधिशासी अधिकारी नगरपालिका सूरतगढ़ सहित जिले में अन्य उपखंड स्तर पर एसडीएम की सहायता के लिए बीडीओ व नगरपालिका के अधिशासी अधिकारियों को लगाया है।
यह रहेगी प्रक्रिया

प्रवासियों को इ-मित्र पोर्टल पर सर्वें फार्म में अपनी जानकारी दर्ज करवानी होगी। यह सुविधा दो तरह के व्यक्तियों प्रवासियों को इ-मित्र पोर्टल पर सर्वें फार्म में अपनी जानकारी दर्ज करनी होगी। ऐसे व्यक्ति जो कि राजस्थान के निवासी हैं, वे राजस्थान में निवास कर रहे हंै, उनके पास जन-आधार कार्ड है तथा वे परिवार एनएफएसए में चयनित नहीं है। ऐसे व्यक्ति जो कि राजस्थान के निवासी नहीं हंै, वे राजस्थान में निवास कर रहे हैं, उनके पास जन आधार कार्ड नहीं है तथा वे परिवार एनएफएसए में चयनित नहीं है।
इन श्रेणियों को किया शामिल

कोविड-19 की परिस्थिति के कारण अस्थाई रूप से बंद हुए काम ध्ंाधे की वजह से उसमें कार्यरत कार्मिकों की श्रेणियों में हेयर सेलून में कार्य करने वाले कार्मिक, कपड़े धुलाई एवं प्रेस करने वाले, फूटवेयर मरम्मत, पालिश करने वाले, घरों में साफ सफाई, खाना बनाने वाले, ऐसे व्यक्ति जो चौराहों पर सामान बेचते हैं तथा अपना भोजन किसी स्थान पर पकाकर खाते हैं। रिक्शा, ऑटो चलाने वाले व्यक्ति, पान की दुकान चलाने वाले, रेस्टोरेंट, होटल में वेटर, रसोइया, रद्दी बिनने वाले, भवन निर्माण कार्यों में निर्माण श्रमिक, कोरोना के कारण बंद हुए उद्योगों में लगे हुए श्रमिक, प्राइवेट पब्लिक ट्रांसपोर्ट में कार्यरत ड्राइवर, कंडक्टर, ठेला, रेहड़ी वाले, स्ट्रीट वेंडर जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा में शामिल न हो, धार्मिक संस्थाओं में पूजा, इबादत कर्म कांड एवं धार्मिक कार्य कराने वाले व्यक्ति, ऐसे धार्मिक व्यक्ति जो विवाह, निकाह एवं अन्य धार्मिक कार्य सम्पन्न कराते हैं, शामिल हैं। मैरिज पैलेस, केटरिंग में कार्य करने वाले कार्मिक, सिनेमा हॉल में काम करने वाले, कोचिंग संस्थानों के सफाई, सहायक का कार्य करने वाले, विवाह समारोह आदि में बैंड, ढोल बजाने वाले, घोड़ी वाले, गाने बजाने वाले, नगिना, आभूषण, चूडिय़ों के काम में लगे श्रमिक, फर्नीचर के काम में लगे, बुक बाइंडर, प्रिंटिंग प्रेस कार्य में लगे, सभी प्रकार की रंगाई, पुताई (डाइंग, कलरिंग आदि) के काम में लगे आदि शामिल हैं।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned