Video: ये दीवाने कहां चले, जेल चले भई जेल चले

पहले दस कर्मियों को ही गिरफ्तार किया तो जताई नाराजगी 

By: pawan uppal

Published: 18 Aug 2017, 07:26 AM IST

श्रीगंगानगर. कलक्ट्रेट के आगे मंत्रालियक कर्मियों का आंदोलन उस समय तेज हो गया जब पुलिस ने खानापूर्ति के लिए दस कर्मियों के नाम एक कागज पर दर्ज किए तो वहां कार्मियों ने विरोध करते हुए सभी की गिरफ्तारी के लिए नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामा इतना अधिक था कि सीओ सिटी तुलसीदास पुरोहित और कोतवाली सीआई राहुल यादव को बीच बचाव करना पड़ा। अखिल राजस्थान राÓय कर्मचारी संयुक्त महासंघ की ओर से धरने पर वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किए। इसमें पंचायत राज शिक्षक कर्मचारी संघ के प्रदेश महामंत्री शंभु सिंह मेड़तिया के अलावा कुलदीप सिंह केपी, नर्सिग एसोसिएशन के रविन्द्र शर्मा, श्याम गोस्वामी, शिक्षक संघ शेखावत के जिलाध्यक्ष गुरमीत सिंह गिल, महासंघ के सतीश शर्मा, जरनैल सिंह, जगन वर्मा, ओम प्रकाश भांभू, सीता स्वामी आदि शामिल थे। इसके उपरांत इन कर्मियों ने कलक्टर के समक्ष अपना रोष प्रकट किया। हंगामा इतना अधिक था कि सीओ सिटी तुलसीदास पुरोहित और कोतवाली सीआई राहुल यादव को बीच बचाव करना पड़ा।

 

Video: हाईमास्ट लाइट हो रही कबाड


जेल की ओर किया कूच तो मची खलबली
कलक्ट्रेट में कोतवाली के एसआई संदीप कुमार की अगुवाई में पुलिस दल ने कर्मियों से दस नाम पूछे और एक जीप में बैठाने की बात कही तो वहां शिक्षक संघ शेखावत के राधेश्याम यादव ने वहां विरोध कर दिया, यादव का कहना था कि सभी की गिरफ्तारी का संकल्प लिया है तो खानापूर्ति किसलिए। यह सुनकर वहां उपस्थित कार्मियों ने जेल के मुख्य गेट पर जाकर अंदर घुसने का प्रयास किया तो वहां सुरक्षा गार्ड ने रोक दिया। हंगामा इतना अधिक था कि सीओ सिटी तुलसीदास पुरोहित और कोतवाली सीआई राहुल यादव को बीच बचाव करना पड़ा। यह देखकर पुलिस प्रशासन और जेल प्रशासन में खलबली मच गई। वाहन नहीं आने पर अड़ गए। एेसे में पुलिस अधिकाारियों ने वहां पुलिस लाइन से मिनी बस और जीप वाहन बुलाकर इन कार्मियों की गिरफ्तारी की प्रक्रिया पूरी की।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned