पिता की पीठ मजबूत करने का प्रयास : मुश्किल हालात आदमी को वक्त से पहले जिम्मेदारियों का भार ढोने के लिए तैयार कर देते हैं। विकट परिस्थितियों में गुजारा करती जिंदगी खेलने-खाने के दिनों में ही बहुत कुछ सिखा देती है। श्रीगंगानगर में रिक्शा चालक जब घर का चूल्हा जलाने के लिए कहीं से लकड़ी का प्रबंध कर लौटा तो बालक ने भी पिता का भार कम करने का प्रयास किया। जलावन से भरे रिक्शा को धक्का लगाता पुत्र मानो घर की गाड़ी खींचने में पिता की मदद की कोशिश कर रहा हो। -राजेन्द्रपालसिंह निक्का

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned