scriptCC Road and Khandwanja made in paper, the budget of lakhs of rupees | SriGanganagar कागजों में बनी सीसी रोड और खंड़वंजा, हजम कर गए लाखों रुपए का बजट | Patrika News

SriGanganagar कागजों में बनी सीसी रोड और खंड़वंजा, हजम कर गए लाखों रुपए का बजट

CC Road and Khandwanja made in paper, the budget of lakhs of rupees digested- रायसिंहनगर क्षेत्र सांवतसर ग्राम पंचायत में खुला 42 लाख 40 हजार रुपए का घोटाला

श्री गंगानगर

Published: April 28, 2022 09:07:53 am

SriGanganagar श्रीगंगानगर। पंयायत समिति रायसिंहनगर क्षेत्र की ग्राम पंचायत सावंतसर और 22 पीटीडी में कागजों में सीसी रोड और खंड़वंजा सडक़ बनाना दर्शाने, पक्के खाले और एमएलए कोटे के नाम पर इंटरलोकिंग टाइल्स बिछाने की आड़ में 42 लाख 40 हजार 9 रुपए का घोटाले का खुलासा जिला परिषद की ओर से जांच कमेटी ने किया है।
SriGanganagar कागजों में बनी सीसी रोड और खंड़वंजा, हजम कर गए लाखों रुपए का बजट
SriGanganagar कागजों में बनी सीसी रोड और खंड़वंजा, हजम कर गए लाखों रुपए का बजट
इस जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुहम्मद जुनैद ने सांवतसर के तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी कनिष्ठ लिपिक प्रवीण कुमार को 37 लाख 28 हजार 221 रुपए का दोषी मानते हुए निलम्बित कर दिया है। इसका निलम्बनकाल का मुख्यालय पंचायत समिति सूरतगढ़ किया गया है।
जांच कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार बीएडीपी से खड़वंजा सडक़ निर्माण 32 पीएसबी से सावंतसर तक बनाने के लिए 14 लाख 79 हजार 540 रुपए का उठाव किया गया। लेकिन जांच कमेटी को यह ढूंढने से सडक़ नहीं मिली। यह सिर्फ कागजों तक सीमित रही। इस पर जांच कमेटी ने तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी प्रवीण कुमार, तत्कालीन सरंपच गिरधारीलाल, कनिष्ठ सहायक हरवीर सिंह, रायसिंहनगर पंचायत समिति के सहायक अभियंता प्रदीप कुमार को दोषी मानते हुए यह राशि वसूलने की अनुशंषा की।
जांच रिपोर्ट के अनुसार मनरेगा योजना के तहत इस गंाव में सीसी रोड का निर्माण बद्री सुथार के घर से सुरजाराम के घर तक होना बताया गया। इस पर 6 लाख 43 हजार 288 रुपए का बजट उठाया। लेकिन मौके पर जांच कमेटी को यह सडक़ देखने को नहीं मिली। इस संबंध में तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी प्रवीण, तत्कालीन सरपंच, संबंधित लेखा सहायक, संबंधित तकनीकी सहायक, संबंधित सहायक लेखाधिकारी, संबंधित सहायक अभियंता, रायसिंहनगर पंचायत समिति के तत्कालीन विकास अधिकारी अमित कुमार चौधरी को दोषी मानते हुए राशि वसूलने की अनुंशषा की। इस प्रकरण की दो आईएएस के अलावा रायसिंहनगर के तत्कालीन विकास अधिकारी विक्रम सिंह राठौड़ ने जांच की भी।
जांच रिपेार्ट के मुताबिक सावंतसर के चक 94 एनपी में पक्के खाळे का निर्माण के नाम पर 2 लाख 160 रुपए का बजट उठाया। जबकि अन्य जगह के खाळे निर्माण के नाम पर फोटो और सामग्री खरीद के बिल लगाकर इस खाळे के नाम पर अनियमितताएं बरती। इस संबंध में सात जनों को दोषी माना गया। इसमें तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी प्रवीण कुमार, तत्कालीन सरपंच , संबंधित लेखा सहायक, संबंधित तकनीकी सहायक, संबंधित सहायक लेखाधिकारी, संबंधित विकास अधिकारी अमित कुमार चौधरी से यह राशि वसूली योग्य मानी।
एमएलए लैण्ड से दुलरासर में इंटरलोकिंग सडक़ निर्माण बाबूराम के घर से गंगाराम के घर तक चार लाख रुपए करने का दावा किया। जांच टीम को यह सडक़ निर्माण धरातल पर दिखी नहीं। इस संबंध में जांच कमेटी ने तत्कालीन सरपंच और तत्कालीन ग्राम सचिव प्रवीण दोनो को संयुक्त रूप से चार लाख रुपए वसूलने योग्य राशि मानी। इसी तरह दुलरासर मं इंटरलोकिंग सडक़ निर्माण प्रेमाराम से उत्तमाराम के घर तक 78 हजार 909 राशि खर्च होने का दावा किया। इस पर भी दोनों को दोषी मानते हुए यह राशि वसूलने योग्य मानी।
जांच कमेटी के अनुसार सहकारी समिति की चारदीवारी मय गेट, पिल्लर मय आयरन गेट सहित आठ कार्यो का भौतिक सत्यापन किया। इसमें पांच कार्यो का ढांचा पाया गया। तीन कार्य निर्मित नहीं पाए गए। इस संबंध में जांच कमेटी ने तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी धीरजकांत शर्मा, तत्कालीन सरपंच प्यारेलाल, संबंधित लेखा सहायक, संबंधित तकनीकी सहायक, संबंधित विकास अधिकारी अमित कुमार चौधरी सहित सात जनों को दोषी मानते हुए 5 लाख 11 हजार 788 रुपए का दोषी मानते हुए राशि रिकवरी की अनुशंषा की।
इस बीच, दीनदयाल उपाध्याय योजना में उत्कृष्ट कार्यो के लिए राजस्थान से चयनित की गई सांवतसर ग्राम पंचायत को केन्द्र सरकार की ओर से लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में आठ लाख रुपए का पुरुस्कार राशि का चेक मिला था।
यह राशि ग्राम पंचायत के खाते में 16 नवम्बर 2017 को जमा हुई। इस राशि को ग्राम पंचायत में खर्च करना था लेकिन तत्कालीन सरपंच और ग्राम सचिव दोनों ने यह राशि खुर्दबुर्द कर दी। जांच कमेटी ने इस राशि के लिए तत्कालीन सरपंच और ग्राम सचिव दोनों को दोषी मानते हुए वसूली योग्य माना है।
SriGanganagar
जिला परिषद की ओर से गठित की गई इस जांच रिपोर्ट में श्रीविजयनगर पंचायत समिति के कनिष्ठ अभियंता संजय जाखड़, अनूपगढ़ पंचायत समिति के सहायक अभियंता हरिकृष्ण सिहाग, जिला परिषद के सहायक सांख्यिकी अधिकारी दलीप जाखड़ और लेखा अधिकारी विनित कुमार शामिल थे। 773 पृष्ठों की इस जांच रिपोर्ट में 645 दस्तावेज भी लगाए गए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

पंजाब CM भगवंत मान ने स्वास्थ्य मंत्री को भ्रष्टाचार के आरोप में किया बर्खास्तकहां रहता है मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम? भांजे अलीशाह ने ED के सामने किया खुलासाकांग्रेस की Task Force-2024 और पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी का ऐलान, जानिए सोनिया गांधी ने किन को दिया मौकापाकिस्तान ने भेजी है विषकन्या: राजस्थान इंटेलिजेंस ने सेना को तस्वीरें भेज कर किया अलर्टकुतुब मीनार केसः साकेत कोर्ट में दोनों पक्षों की दलीलें पूरी, 9 जून को अदालत सुनाएगी फैसलाPooja Singhal Case: झारखंड की 6 और बिहार के मुजफ्फरपुर में ED की एक साथ छापेमारी, अहम सुराग मिलने की उम्मीदश्रीलंका में फिर बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमत, पेट्रोल 420 तो डीजल 400 रुपए प्रति लीटरकर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया का विवादित बयान, 'मैं हिंदू हूं, चाहूं तो बीफ खा सकता हूं..'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.