नशे की गोलियां पकडऩे को पुलिस ने खंगाली 40 निजी बसें, हुई सामान की जांच

https://www.patrika.com/sri-ganga-nagar-news

 

By: Raj Singh

Published: 19 Jan 2019, 04:55 PM IST

जिले में चलाया जा रहा नशामुक्ति अभियान, होगी आकस्मिक जांच
श्रीगंगानगर. पुलिस की ओर से जिले में मेडिकेटेड नशे के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के तहत शनिवार तडक़े चार बजे से सात बजे तक सूरतगढ़, लालगढ़ जाटान व शहर के विभिन्न चौराहों पर बाहर से आने वाली चालीस निजी बसों को खंगाला गया। इस दौरान पुलिस ने सीओ सिटी के नेतृत्व में बसों में आने वाले पैकेटों, यात्रियों के सामान आदि की चेकिंग की। पुलिस को दवाएं तो मिली लेकिन वे नशे की नहीं थी।
सीओ सिटी रोशन कुमार पटेल ने बताया कि नशे की दवाओं सहित अब तक पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ में यह सामने आया है कि गोलियों के पैकेट निजी बसों में दिल्ली, बीकानेर, जयपुर आदि से यहां पहुंचाए जाते हैं। जिसको लेकर पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा के निर्देश पर शनिवार सुबह करीब चार बजे लालगढ़ जाटान, सूरतगढ़, कैंचियां और शहर के विभिन्न स्थानों पर जहां सवारियां उतरती हैं। वहां कई थानों की पुलिस व लाइन का जाब्ता तैनात कर दिया गया। इन स्थानों पर बाहर से आने वाली निजी बसों की सघन तलाशी ली गई। इसके बाद बस स्टैण्ड के समीप कोडा चौक पहुंचने पर इनमें आए पार्सलों व अन्य सामान की जांच की गई। जांच के दौरान दवाएं तो मिली लेकिन वे एनडीपीएस घटक व नशे की नहीं थी।
इस तरह चला अभियान
- सूरतगढ़ व लालगढ़ जाटान पहुंचते ही बसों नाकों पर रुकवाया गया और वहां उतरने वाले लोगों के सामान की जांच की गई। यहां से दो-दो पुलिसकर्मी बसों में बैठा दिए गए। रास्ते में जो भी सवारी उतरी उसके सामान की जांच की गई। इसके बाद सूरतगढ़ बाईपास पर, चहल चौक सहित अन्य स्थानों पर जांच की गई। यहां से भी दो-दो पुलिसकर्मियों को बसों में बैठाया गया। कोडा चौक पहुंचने के बाद यहां तैनात सीओ सिटी, पुरानी आबादी, जवाहरनगर व यातायात पुलिस ने बसों की फिर गहनता से जांच की और पार्सलों को लेने आए व्यक्तियों से खुलवाकर देखा गया।
अभियान ये पुलिसकमी्र हुए शामिल
- सुबह चार से सात बजे तक चले अभियान में सीओ सिटी के नेतृत्व में जवाहरनगर थाना प्रभारी प्रशांत कौशिक, यातायात प्रभारी आनंद कुमार, सदर थाना प्रभारी राजेश सिहाग, घमूडवाली, लालगढ़ जाटान, सूरतगढ़ थाना प्रभारी व जाब्ता शामिल रहा।
बसों पर रखी जाएगी पूरी नजर
-सीओ सिटी ने बताया कि पुलिस की जांच में यह तथ्य सामने आए हैं कि नशे की दवाओं का 80 फीसदी तक परिवहन निजी बसों में होता है। इसलिए यह अभियान शुरू किया गया है। यह अभियान अब लगातार चलाया जाएगा और बसों पर पूरी नजर रखी जाएगी। सादा कपड़ों में पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाएगा।
बस मालिकों, चालकों की होगी बैठक
- सीओ सिटी ने बताया कि अधिकारियों के निर्देश पर जल्द ही बस मालिकों, चालकों व कंडक्टरों की बैठक की जाएगी। जिसमें उनको अवगत कराया जाएगा कि यदि बस में नशे की गोलियां पकड़ी जाती है, तो बस सीज की जाएगी। चालक व कंडक्टर के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तारी होगी। इसलिए बसों में आने वाले पार्सलों नशे की दवाएं आने से बचा जाए।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned