रिश्वत प्रकरण में गायब सीआई संजय बोथरा को जमीन निगल ली या आसमां

रिश्वत प्रकरण में गायब सीआई संजय बोथरा को जमीन निगल ली या आसमां
रिश्वत प्रकरण में गायब सीआई संजय बोथरा को जमीन निगल ली या आसमां,रिश्वत प्रकरण में गायब सीआई संजय बोथरा को जमीन निगल ली या आसमां

Surender Kumar Ojha | Updated: 12 Oct 2019, 08:01:16 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

CI Sanjay Bothraपूरे प्रदेश के लिए मॉडल बने जोधपुर के बासनी पुलिस थाने में बजरी माफिया और पुलिस के बीच गठजोड़ उजागर होने के बाद से भूमिगत हुए बासनी थाने के तत्कालीन प्रभारी संजय बोथरा अब पहेली बन गया है.

श्रीगंगानगर. पूरे प्रदेश के लिए मॉडल बने जोधपुर के बासनी पुलिस थाने में बजरी माफिया और पुलिस के बीच गठजोड़ उजागर होने के बाद से भूमिगत हुए बासनी थाने के तत्कालीन प्रभारी संजय बोथरा अब पहेली बन गया है। बोथरा श्रीगंगानगर में कोतवाली सीआई के पद पर रह चुका है।

पीलीबंगा के मूल निवासी इस सीआई पर उच्चाधिकारियों की मेहरबानी रही है, इसके रिश्तेदार और परिजन श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले में कई कारोबार में लग हुए है। रश्वत लेने के आरोप में फरार बासनी थाने के तत्कालीन प्रभारी संजय बोथरा के नाम विशेष न्यायाधीश सैशन न्यायायलय (भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम) जोधपुर की ओर से जारी नोटिस यहां नगर परिषद परिसर में चस्पा किया गया है। इससे पहले 9 अक्टूबर को पीलीबंगा नगरपालिका के बाहर भी नोटिस चस्पा किया गया था। जिसमें 19 अक्टूबर तक न्यायालय में पेश होने के आदेश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि रिश्वत के मामले में बासनी थाने के तत्कालीन प्रभारी संजय बोथरा को गिरफ्तार करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ व पीलीबंगा में मकानों पर छापेमारी की थी। लेकिन संजय बोथरा नहीं मिला। इस संबंध में न्यायालय की ओर से जारी वारंटों को आरोपी नहीं मिलने पर लौटाया जा रहा था।

इसके बाद अब कोर्ट ने 19 अक्टूबर को न्यायालय में पेश होने के लिए नोटिस जारी किया है।
पिछले कुछ दिनों पहले भी एसीबी टीम ने पीलीबंगा में संजय बोथरा के चाचा राजू बोथरा के घर की ली तलाशी ली। संजय बोथरा व उनके परिजनों के नाम चल व अचल संपति के बारे में नगर पालिका कार्यालय से जानकारी जुटाई थी।
सीआई बोथरा का हनुमानगढ़ जंक्शन के हाऊसिंग बोर्ड में एक मकान है। वहीं आय से अधिक संपति के मामले में बोथरा व उसकी पत्नी अंजली के खिलाफ दर्ज प्रकरण में प्रदेश के पांच जिलों में आठ ठिकानों पर छानबीन हो चुकी है। बोथरा दंपत्ति के उड़ीसा में एक शोरूम सहित कुछ अन्य जगहों पर भूखंड की बातें सामने आई है।

ज्ञात रहे कि बजरी माफिया की बंधी व रिश्वत के इस प्रकरण में फंसा पूर्व थानाधिकारी बोथरा छह दिन गायब रहने के बाद 16 मई को पेश हुआ था। पुलिस लाइन में आमद करने के अगले ही दिन उसकी 10 दिन की छुट्टी स्वीकृत हो गई। ये खत्म होने पर उसने 27 मई को 20 दिन की छुट्टी ले ली। इसके बाद वह भूमिगत हो गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned