कोरोना वायरस संक्रमण रोकथाम दवा खरीद फरोख्त के नाम पर भारी गड़बड़ी

Corona virus prevention drug procurement huge disturbances हर पंचायत समिति में अलग अलग दाम, किसी ने 110 रुपए तो किसी ने महज साढ़े 18 रुपए में खरीदी दवा

By: surender ojha

Updated: 23 Apr 2020, 11:43 PM IST

श्रीगंगानगर. एक ओर पूरे देश में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर हडक़ंप मचा हुआ है तो दूसरी ओर ऐसे अफसर भी है जिन्होंने इस महामारी की आड़ में दवाईयों की खरीद में निर्धारित कीमत से कई गुणा कीमतें चुकाने के लिए दरियादिली दिखा दी है।

जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए सोडियम हाइपो क्लोराइट दवा की खरीद फरोख्त में जमकर गड़बड़ी हुई, जैसे जैसे दवा आपूर्ति करने वाली फर्मो को भुगतान किया जा रहा है तो इसकी परतें खुलने लगी है।

अनूपगढ़ पंचायत समिति ने तो करीब ढाई हजार लीटर दवा 110 रुपए में खरीदी तो सूरतगढ़ पंचायत समिति ने इस दवा को 38 रुपए और घड़साना पंचायत समिति ने 63 रुपए प्रति लीटर की दर से खरीदने में संकोच नहीं किया। वहीं श्रीगंगानगर पंचायत समिति ने तो 18 रुपए 45 पैसे प्रति लीटर के हिसाब से दवाईयों की खेप मंगवाई है।

जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमण के दौर में प्रत्येक पंचायत समिति के विकास अधिकारियों से वीडियो कॉफ्रसिंग कर दवा की खरीद कर बचाव के प्रचार प्रसार करने की हिदायत दी गई थी।

इसी वीडियो कॉफ्रसिंग में दवा कितने लीटर खरीदनी है और उसका छिडक़ाव करना है या नहीं, इस बारे में कोई आदेश नहीं दिया था। लेकिन विकास अधिकारियों ने आनन फानन में यह दवा खरीदने के लिए जुगात कर ली। हर तीस किमी दूरी के अंतराल के बाद पंचायत समिति क्षेत्र में इस दवा के दामों भी अलग अलग सामने आए है।

अनूपगढ़ पंचायत समिति के विकास अधिकारी धीरज बकोलिया ने बताया कि उन्होंने करीब ढाई हजार लीटर दवा की खरीद 110 रुपए प्रति लीटर की दर से खरीद की। इस संबंध में स्पष्ट आदेश नहीं मिले थे कि कितनी दवा खरीदनी है। वीडियो कॉफ्रेसिंग में कलक्टर ने खरीदना बताया, मात्रा के बारे में नहीं। इस दवा में सोडियम हाइपो क्लारोइड की क्षमता महज छह प्रतिशत खुद आपूर्ति फर्म ने अपने बिल में अंकित कर बताया है। लॉक डाउन की अवधि के दौरान आपूर्ति हुई इस राशि श्रीगंगानगर ब्लॉक एरिया की इस फर्म ने 31 मार्च 2020 को बिल काटकर राशि की डिमांड की है।

श्रीगंगानगर पंचायत समिति ने इस दवा की क्षमता दस प्रतिशत वाली सिर्फ 18 रुपए 82 पैसे में खरीदी है। इधर, घड़साना पंचायत समिति की बीडीओ शीला देवी का कहना था कि उन्होंने तो सिर्फ पचास लीटर 63 रुपए प्रति लीटर की दर से खरीदी। वहीं सूरतगढ़ पंचायत समिति ने यह करीब 35 रुपए प्रति लीटर की दर से एक सौ लीटर दवा की खरीद की गई है।

इधर, जिला परिषद प्रशासन ने कोटा से पांच हजार लीटर दवा की डिमांड भिजवाई है। सीईओ ने बताया कि इसकी कीमत 16 रुपए 40 पैसे है, जीएसटी और परिवहन खर्च अलग देना होगा। कुल मिलाकर यह दवा करीब साढ़े 18 रुपए प्रति लीटर की दर से खरीदी जा रही है। इस दवा की आपूर्ति अगले तीन दिनों में होने के आसार है।

राज्य के ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग के विशिष्ट शासन सचिव डा.आरुषी मलिक ने 22 अप्रेल को राज्य की जिला परिषदों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारियों, विकास अधिकारियों को आदेश जारी किया है, इसमें सोडियम हाइपो क्लारोइट दवा, हाथ के दस्ताने, सैनेटाइजर, मास्क, मेन्युअल स्प्रे मशीन के क्रय करने के लिए जिला कलक्टर की अध्यक्षता में गठित जिला दर निर्णायक समिति की ओर से किए जाने के लिए अधिकृत किया है। दवा का छिडक़ाव भी चिकित्सा विभाग के निर्देशों के अनुरुप करने के लिए कहा गया है।

जिसने महंगी दर पर खरीदी वह खुद भुगतेगा

यह सही है कि कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए सोडियम हाइपो क्लारोइट दवा को खरीदने के लिए कई विकास अधिकारियों ने भारी रकम खर्च की है। जिस अधिकारी ने इस दवा खरीदने के नाम पर भारी बिल उठाव करने की चेष्टा की है वह खुद भुगतेगा। हमने तो कोटा से 16 रुपए 40 पैसे प्रति लीटर के हिसाब से पांच हजार लीटर दवा खरीदने के लिए ऑर्डर किया है।

- महावीर सिंह, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिल परिषद श्रीगंगानगर

—----

जिले में ग्राम पंचायतों का गणित
पंचायत समिति का नाम ग्राम पंचायतें
श्रीगंगानगर 53
सादुलशहर 28
श्रीकरणपुर 35
पदमपुर 36
रायसिंहनगर 47
श्रीविजयनगर 29
सूरतगढ़ 49
अनूपगढ 32
घड़साना 36
कुल योग 345

surender ojha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned