Video: सरहद पर बेटियां की ताकत, दुश्मन पर पैनी नजर

इस सैक्टर की समस्त सीमा चौकियों पर पुरूष जवानों के साथ-साथ महिला प्रहरी भी पूरी मुस्तैदी के साथ देश की सीमा की रक्षा में जुटी हैं।

By: pawan uppal

Updated: 26 Jan 2018, 11:45 AM IST

अनूपगढ़.

अनूपगढ़ शहर से भारत-पाक अन्र्तराष्ट्रीय सीमा की दूरी मात्र 13 किमी है तथा सीमावर्ती क्षेत्र होने के कारण अनूपगढ़ का इलाका प्रत्येक समय चर्चा का विषय बना रहता है। अनूपगढ़ में वर्तमान में सीमा सुरक्षा बल की 104 बटालियन तैनात है तथा इस सैक्टर की समस्त सीमा चौकियों पर पुरूष जवानों के साथ-साथ महिला प्रहरी भी पूरी मुस्तैदी के साथ देश की सीमा की रक्षा में जुटी हैं।

 

गणतंत्र दिवस समारोह में 130 छात्र-छात्राएं, अधिकारी, कर्मचारी होंगे सम्मानित

 

हाथों में आधुनिक किस्म के हथियारों को उठाएं दुश्मन देश की हर हरकत पर पैनी नजर गड़ाए अपनी डयूटी को अंजाम देती नजर आती हैं। पुरूषों के कंधे से कंधा मिलाकर सीमा पर डटी इन महिला प्रहरियों ने साबित किया है कि बेटियां कहीं भी बेटों से कम नहीं है। अनूपगढ़ क्षेत्र के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी महिला प्रहरी सीमा चौकियों पर तैनात हैं। इन महिला प्रहरियों में ऐसी प्रहरी भी हैं, जिनके परिवार का कोई ना कोई सदस्य देश की सीमा की रक्षा करते हुए वीर गति को प्राप्त हो चुका है। इन महिला प्रहरियों का मकसद है कि देश की सेवा करें। विपरित परिस्थितियों में महिलाओं के लिए मिशाल बनीबेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ तथा महिला सशक्तिकरण जैसे अभियान महिलाओं की तथा युवतियों में आत्मविश्वास पैदा करने के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे है।

 

विधायक जिंदल व आयुक्त चौधरी आमने-सामने

 

सीमा पर तैनात प्रहरियों को देखकर पता चलता है कि अब महिलाएं भी पुरुषों से कम नहीं रही हैं। देश की सीमा पर तैनात महिला प्रहरी जो सरहद पर अपनी पैनी नजर से दुश्मन की हर गतिविधि पर नजर रखे हुए हैं। वर्तमान में वातावरण में ऐसी धुंध तथा कोहरे का आलम है कि हाथ को हाथ दिखना भी मुश्किल हो जाता है और विजिब्लिटी कुछ ही मीटर रह जाती है, ऐसे में यह बेटियां ना केवल देश की सरहदों पर पूरी ताकत के साथ सीमाओं की सुरक्षा कर रही है, बल्कि विपरित परिस्थितियों में अन्य महिलाओं के लिए मिशाल बन हुई हैं।

हाथ में हथियार दिल में जोश और देश भक्ति का जज्बा लिए घर से दूर महिला प्रहरी सर्दी गर्मी धूप बरसात आंधी सब झेल कर भारत-पाक सीमा की निगरानी में जुटी हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों से आई महिला प्रहरियों को अपने घर से दूर रहने का बिलकुल भी मलाल नहीं है, बल्कि अपने घर से दूर रहकर परिवार के प्रति अपनी जिमेदारियों का निर्वहन भी बड़ी कुशलता से कर रही है। देश की बेटियों ने सरहद पर जिमां सभाल रखा है, ताकि आप और हम अपने घरों में चैन की नींद सो सकें।

यह हमारे देश का सौभाग्य है कि एक ओर जहां महिलाएं बी.एस.एफ. में देश सेवा के लिए भर्ती हो रही हैं तो वहीं दूसरी तरफ विभिन्न क्षेत्रों में डॉक्टर, इंजीनियर, अभियंता, आर.ए.एस., आई.ए.एस. जैसे पदों पर तैनात होकर देश का गौरव बढ़ा रही है। जब इन महिला प्रहरियों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमारा सौभाग्य है कि हमें देश की सेवा करने का मौका मिला है। हम अपने भाई बहनों को भी देश की रक्षा के लिए कार्य करने के लिए प्रेरित करती हैं।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned