पेट्रोल-डीजल के रेट छह माह के लिए पड़ोसी राज्य के बराबर करने की मांग

- एसोसिएशन ने ऊर्जा मंत्री एवं प्रभारी मंत्री को दिया ज्ञापन

By: Raj Singh

Published: 22 Feb 2021, 12:02 AM IST

श्रीगंगानगर. जिले के दौरे पर आए ऊर्जा मंत्री एवं प्रभारी मंत्री बीडी कल्ला को श्रीगंगानगर पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन की ओर से ज्ञापन देकर छह माह के लिए जिले में डीजल व पेट्रोल का रेट पड़ोसी राज्य के बराबर करने की मांग की है।


ज्ञापन में बताया है कि प्रदेश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें काफी अधिक है। पड़ोसी राज्य पंजाब, हरियाणा, गुजरात की तुलना में राजस्थान में पेट्रोल-डीजल की दरें अत्यधिक होने से पेट्रोल व डीजल की अवैध तस्करी हो रही है। इससे पेट्रोल पंप बंद करने के कगार पर आ गए हैं।

पंप संचालक व वहां काम करने वाला स्टाफ बेरोजगारी की स्थिति में है। देश में पेट्रोल-डीजल की सबसे ज्यादा दरें राजस्थान में है। जिसमें श्रीगंगानगर जिले में दरें सर्वाधिक है। जिसके चलते वाहन मालिक गुजरात, हरियाणा व पंजाब से पेट्रोल-डीजल भरवाकर आता है। प्रदेश में पेट्रोल-डीजल पर दस रुपए का अंतर है। जिसका कारण राज्यों में वेट की दरों में भारी अंतर है।

इसलिए सरकार डीजल-पेट्रोल को पायलट प्रोजेक्ट में लेकर छह माह के लिए श्रीगंगानगर जिले में वेट दर पड़ोसी राज्यों के बराबर कर दें, तो निश्चित रूप से सरकार का राजस्व बढ़ेगा। यदि सरकार का राजस्व नहीं बढ़ता है तो सरकार रेट वापस बढ़ा दे। जयपुर की तुलना में श्रीगंगानगर में पेट्रोल-डीजल पर 4 रुपए का अंतर है।

इसलिए ट्रांसर्पोटेशन पुल अकाउंट बनाया जाए, ताकि राज्य में पेट्रोल-डीजल की दरें समान हो सकें। कोरोना कॉल में डीजल व पेट्रोल की दर में 6 व 8 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी, जिसको वापस लिया जाए। ज्ञापन देने वालों में अध्यक्ष आशुतोष गुप्ता, उपाध्यक्ष विमल बिहाणी, सचिव संपत मील आदि थे।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned