डीजल ने लगाया शतक,केसरीसिंहपुर मंडी में डीजल हुआ 100 रुपए प्रति लीटर

जून माह में पांच-छह बार बढ़ चुका है पेट्रोल-डीजल के रेट

By: Krishan chauhan

Published: 12 Jun 2021, 10:14 AM IST

जून माह में पांच-छह बार बढ़ चुका है पेट्रोल-डीजल के रेट--डीजल ने लगाया शतक,केसरीसिंहपुर मंडी में डीजल हुआ 100 रुपए प्रति लीटर

श्रीगंगानगर.कांग्रेस पार्टी ने श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ सहित देश भर में पेट्रोल-डीजल व रसोई गैस की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया है। वहीं,बढ़ती इस महंगाई के बीच श्रीगंगानगर जिले में पेट्रोल व डीजल के रेटों में लगातार इजाफा हो रहा है। इस बीच शुक्रवार को जिले की केसरीसिंहपुर मंडी में डीजल ने शतक लगा दिया है। वहां डीजल 100 रुपए प्रति लीटर तक बिका है। हालांकि जिला मुख्यालय पर डीजल 99.81 पैसे प्रति लीटर और पेट्रोल 106.96 पैसे प्रति लीटर भाव रहा है। डीजल का रेट बढऩे से अब किराया-भाड़ा बढऩे से महंगाई और ज्यादा बढ़ेगी। पिछले छह महीनों में जिले में पेट्रोल 11.33 रुपए और डीजल 12.66 रुपए प्रति लीटर तक बढ़ा है। आठ दिसंबर 2020 को जिले में पेट्रोल 95.53 रुपए प्रति लीटर था,जो अब बढकऱ 106.96 पैसे हो चुका है। इस बीच डीजल का रेट 87.15 रुपए प्रति लीटर से बढकऱ 99.81 पैसे प्रति लीटर तक पहुंच चुका है।

डीजल पर 26 प्रतिशत वेट
श्रीगंगानगर पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन जिलाध्यक्ष आशुतोष गुप्ता का कहना है कि वर्तमान में राजस्थान राज्य में पेट्रोल-डीजल पर अन्य राज्यों की तुलना में सर्वाधिक वेट वसूला जा रहा है। राजस्थान में पेट्रोल पर 36 प्रतिशत तथा डीजल पर 26 प्रतिशत वेट लगाया गया है,जो कि अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा है। गत वर्ष राज्य सरकार ने कोरोनाकाल के मद्देनजर पेट्रोल-डीजल पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाया था। इस कारण पूरे देशभर में सर्वाधिक महंगा पेट्रोल-डीजल राजस्थान में मिल रहा है।श्रीगंगानगर में पेट्रोल व डीजल महंगा होने की वजह से पेट्रोलियम पदार्थ जयपुर व जोधपुर डिपो से सप्लाई होने की वजह से परिवहन व्यय पर ज्यादा खर्चा आ रहा है।

पंजाब में टैक्स कम

जबकि पंजाब में पेट्रोल पर टैक्स की दर 24.79 प्रतिशत और डीजल पर 15.94 प्रतिशत है। इस कारण पंजाब की अपेक्षा यहां डीजल 10.53 रुपए और पेट्रोल 9.80 रुपए महंगा मिल रहा है। इससे पेट्रोल व डीजल की पंजाब से तस्करी होती है। इसका दुष्परिणाम यह रहा कि वर्तमान में अवैध रूप से पेट्रोल-डीजल की तस्करी धड़ल्ले से हो रही है। इससे पेट्रोल पम्पों की बिक्री बहुत कम हो गई। सर्वाधिक नुकसान राज्य सरकार को टैक्स के रूप में हो रहा है तथा पेट्रोल पंप की बिक्री 90 प्रतिशत तक गिरने से बंद होने के कगार पर पहुंच गए।

किसान वर्ग को ज्यादा नुकसान

एक तरफ सरकार किसानों के कल्याणकारी के लिए बड़े-बड़े दावा कर रही है। दूसरी ओर राजस्थान राज्य का किसान मजबूरन सबसे महंगा डीजल अपने कृषि कार्यों के लिए खरीद रहा है। जिससे किसान की उपज की लागत करीब 10 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। जीकेएस के कानूनी सलाहकार हरविंद्र सिंह गिल का कहना है कि राज्य व केंद्र की सरकार को टैक्स कम कर पेट्रोल-डीजल के रेट कम करने चाहिए। जबकि दोनों ही सरकारें टैक्स कम नहीं कर आम व्यक्ति को लूट रही है। डीजल 100 रुपए प्रति लीटर तक पहुंचने से किसान के लिए खेतीबाड़ी करना काफी महंगी हो जाएगी।

परिवहन सेवा होगी महंगी,आम व्यक्ति पर पडेंगी मार

लॉकडाउन में एक माह तक परिवहन सेवा ठप रही। इस कारण टैक्सी चालकों व ट्रांसपोर्टरों की माली हालत खराब बनी हुई है। अब पेट्रोल का रेट 100 रुपए प्रति लीटर तक पहुंचने पर वाहन संचालक में पहले की तुलना में महंगा हो जाएगा। इसकी मार आम व्यक्ति पर पड़ेगी।

डीजल और पेट्रोल की दरों में लगातार इजाफा हो रहा है। इस बीच केसरीसिंहपुर मंडी में शुक्रवार को डीजल 100 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गया है जबकि श्रीगंगानगर शहर में डीजल का रेट 99.81 रुपए प्रति लीटर है।

रविंद्र भाटिया,संचालक,भाटिया पेट्र्रोल पंप,श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned