काम छूटने की मायूसी लेकिन घर जाने का उत्साह भीवाना हुई ट्र्रेन , बिहार के प्रवासी श्रमिकों को लेकर र

कहा फिर लौटकर आएंगे, अभी परिवार इंतजार कर रहा

By: Raj Singh

Published: 24 May 2020, 11:16 PM IST

श्रीगंगानगर. लॉक डाउन के दौरान जिले में फंसे बिहार के प्रवासी श्रमिकों को लेकर रविवार दोपहर करीब बारह बजे 1600 श्रमिकों को लेकर स्टेशन से ट्रेन रवाना हुई। बिहार अपने घरों को जाने वाले श्रमिकों के चेहरों पर काम-धंधा छूटने की मायूस तो थी लेकिन साथ ही लंबे समय बाद घर जाने का उत्साह भी दिखाई दे रहा था। ट्रेन में के चलते ही प्रवासी श्रमिक हाथ हिलाकर प्रशासन व रेलवे का आभार जताते नजर आए।


लॉक डाउन लगने के बाद से ही सभी काम-धंधे ठप हो गए और प्रवासी श्रमिकों के पास खर्च चलाने के रुपए भी खत्म हो गए थे। ऐसे में वे काफी समय से अपने घर जाने के लिए प्रयासरत थे और उन्होंने प्रशासन से घर जाने की अनुमति देने की मांग की थी। कुछ श्रमिक पंजाब की तरफ से भी यहां आ गए थे और काफी संख्या मे प्रवासी जिले में ही फंसे हुए थे। इनकी संख्या अधिक होने के कारण ट्रेन की व्यवस्था की गई।

इसके लिए प्रशासन, पुलिस व रेलवे सहित अन्य विभागों ने पहले ही तैयारियां कर ली थी। रविवार को सुबह से ही जिले के अन्य स्थानों से बसों में बैठाकर श्रमिकों यहां रेलवे स्टेशन पर लाया गया। जहां गेट पर ही उनको सैनेटाइज्ड किया गया। इसके बाद सोशल डिस्टेसिंग की पालना कराते हुए अंदर प्लेटफार्म पर भेजा। जहां बने गोलों में खड़ा करने के बाद अलग-अलग काउंटरों पर उनको टिकट वितरित किए गए। साथ ही पानी व भोजन के पैकेट तथा मास्क भी मुहैया कराए गए। यहां 1600 प्रवासी श्रमिक बिहार जाने के लिए पहुंचे थे। जिनको ट्रेन में बैठाया गया। इस दौरान श्रमिकों ने बताया कि उनके काम-धंधे ठप हो गए थे और अब पैसे भी नहीं बचे थे। इसलिए अब वे अपने गांव जा रहे हैं। काम-धंधा छूटने से उनके चेहरे पर मायूसी थी तो लेकिन घर जाने का उत्साह भी था।

कई श्रमिकों ने बताया कि कोरोना जाने के बाद वे फिर लौटकर आएंगे। ट्रेन के 22 कोच में जोनवार श्रमिकों को बैठाया गया। जैसे ही प्लेटफॉर्म से स्पेशल ट्रेन रवाना हुई तो श्रमिक खिड़कियों से हाथ हिलाते रहे। वे वहां मौजूद सभी का आभार जता रहे थे। ट्रेन रवाना होने के दौरान जिला कलक्टर शिव प्रसाद एम नकाते, विधायक राजकुमार गौड़, पुलिस अधीक्षक हेमंत शर्मा, जिला परिवहन अधिकारी सुमन डेलू, एडीएम प्रशासन डॉ. गुंजन सोनी, एसडीएम उम्मेद सिंह रत्नू वरिष्ठ वाणिज्य मण्डल प्रबन्धक जितेन्द्र मीणा, रेलवे स्टेशन अधीक्षक दिनेश त्यागी, रसद अधिकारी राकेश सोनी सहित रेलवे, प्रशासन, पुलिस सहित अन्य विभागों के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।
जितने प्रवासी, उतने ही अधिकारी, कर्मचारी व अन्य
- रेलवे स्टेशन पर स्पेशल ट्रेन में प्रवासी श्रमिकों को बैठाकर बिहार रवाना करने के दौरान जितने प्रवासी थे, उतने ही अधिकारी व कर्मचारी सहित अन्य लोग मौजूद थे।

पूरा प्रशासन, पुलिस, परिवहन विभाग, रेलवे विभाग, आरपीएफ, जीआरपी, रसद विभाग, सहित अन्य विभागों के कर्मचारी व अधिकारी यहां मौजूद रहे। साथ ही नागरिक सुरक्षा के वालियंटर, स्काउट गाइड सहित अन्य लोग मौजूद थे। स्टेशन पर ट्रेन रवाना होने तक मेला सा लगा रहा।
यूपी के 43 प्रवासियों स्टेशन लाए लेकिन भेजा नहीं
- रायसिंहनगर में उत्तरप्रदेश के 43 श्रमिकों को एसडीएम की ओर से बस में बैठाकर यहां लगाया गया कि उनको भी बिहार जा रही स्पेशल ट्रेन में बैठाया जाएगा। लेकिन किसी कारण से बिहार जा रही ट्रेन में वे नहीं बैठाए गए। इसके चलते श्रमिकों ने रोष व्यक्त किया।

इन श्रमिकों को बाद में साधुवाली राहत शिविर में पहुंचा दिया गया। इनको बसों या अन्य साधन से उनके घर पहुंचाया जाएगा।

Raj Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned