डिस्पेंसरी क्रमोन्नत कर दी, स्टाफ लगाया ही नहीं

vikas meel

Publish: Apr, 17 2018 09:57:15 PM (IST)

Sri Ganganagar, Rajasthan, India
डिस्पेंसरी क्रमोन्नत कर दी, स्टाफ लगाया ही नहीं

-रेलवे कर्मचारी हो रहे हैं परेशान

-हनुमानगढ़ से सप्ताह में तीन दिन आते हैं डाक्टर

श्रीगंगानगर.

रेल कर्मियों के लिए स्टेशन परिसर में बनी डिस्पेंसरी को अब हेल्थ यूनिट में तब्दील कर दिया गया है, लेकिन कर्मचारियों को डाक्टर की सेवाएं सप्ताह में महज तीन दिन ही मिल रही हैं। रेलवे डिस्पेंसरी को कागजों में हेल्थ यूनिट के रूप में तब्दील किए हुए काफी समय हो चुका है, लेकिन डाक्टर सहित अन्य स्टाफ की नियुक्ति नहीं हो पाई है। इससे लगभग एक हजार रेल कर्मियों के परिवारों को परेशानी हो रही है। रेल कर्मियों को मेडिकल अवकाश के लिए भी हनुमानगढ़ जाना पड़ रहा है। आपात स्थिति में रेल कर्मियों के सामने निजी अस्पतालों में उपचार के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है। निजी अस्पतालों और रेल प्रशासन की ओर से तय दरों में अंतर होने के कारण रेल कर्मियों के मेडिकल बिल भी पास नहीं होते।

 

रेलवे बोर्ड गंगानगर में डिस्पेंसरी को काफी समय पूर्व क्रमोन्नत कर चुका है। डिस्पेंसरी में ही डाक्टर, फार्मेसिस्ट, स्टोर और ड्रेसिंग के लिए अलग से कमरों का निर्माण किया जा चुका है। रेलवे डिस्पेंसरी में जो सुविधाएं देने की स्वीकृति जारी की हैं, उसमें डाक्टरों और फार्मेसिस्ट एक-एक, दो अटेंडेंट, ड्रेसर और सफाई कर्मी के एक-एक पद मंजूर किए हैं। फिलहाल हनुमानगढ़ डिस्पेंसरी से एक डाक्टर मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को यहां आते हैं। डाक्टर ही फार्मेसिस्ट के रूप में मरीजों को दवाइयां देते हैं। श्रीगंगानगर रेलवे डिस्पेंसरी पर लगभग ढाई हजार लोग निर्भर हैं। यह डिस्पेंसरी सुबह नौ से दोपहर एक और सायं साढ़े चार से साढ़े पांच बजे खुलती है।

 

मरीज को वाहन में ले जाना संभव नहीं

रेलवे डिस्पेंसरी जाने के लिए रेल पटरियों को पार करना पड़ता है। डिस्पेंसरी तक वाहन में मरीज को ले जाना काफी दूभर है। ब्रॉडगेज कॉलोनी से डिस्पेंसरी तक जाने का कोई सीधा रास्ता नहीं है। डिस्पेंसरी के पीछे पार्क से पैदल गुजरकर ही पहुंचा जा सकता है। रेल अधिकारी मानते हैं कि डिस्पेंसरी उस समय बनाई गई थी, जब स्टेशन परिसर में रेल पटरियों का विस्तार नहीं हुआ था। इस डिस्पेंसरी में ऑब्जेर्वेशन बैड भी नहीं है।

 

रेलवे स्टेशन परिसर में स्थित लॉकअप डिस्पेंसर को क्रमोन्नत कर हेल्थ यूनिट बनाई जा चुकी है। जल्द ही यहां डाक्टर समेत अन्य स्टाफ की नियुक्ति हो जाएगी। हनुमानगढ़ और बीकानेर से स्थाई स्टाफ को यहां लगाया जाएगा।

- डॉ. सुशील शर्मा, चिकित्सा अधिकारी, रेलवे हेल्थ यूनिट, श्रीगंगानगर

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned