scriptDogs are more dangerous for children | बच्चों के लिए अधिक खतरनाक हैं कुत्ते | Patrika News

बच्चों के लिए अधिक खतरनाक हैं कुत्ते

जिले में दिनोंदिन बढ़ रही कुत्तों की संख्या बड़ों के साथ-साथ बच्चों के लिए अधिक खतरनाक साबित हो रही है। जिले में कुत्तों की संख्या बढऩे के साथ-साथ कुत्ते काटने की घटनाएं भी बढ़ती जा रही है। बच्चों को कुत्ते का काटना खतरनाक साबित हो सकता है। कारण कि बच्चा कमजोर होने के साथ-साथ उसकी ऊंचाई कम होती है जिससे कुत्ते उन्हें गिराकर घायल कर देते हैं।

श्री गंगानगर

Published: November 19, 2021 03:23:56 am

-कुत्ता काटने पर बच्चों में तेजी से फैलता है रोग
-श्रीगंगानगर में रैबीज से हो चुकी चौकीदार की मौत

योगेश तिवाड़ी.श्रीगंगानगर. जिले में दिनोंदिन बढ़ रही कुत्तों की संख्या बड़ों के साथ-साथ बच्चों के लिए अधिक खतरनाक साबित हो रही है। जिले में कुत्तों की संख्या बढऩे के साथ-साथ कुत्ते काटने की घटनाएं भी बढ़ती जा रही है। बच्चों को कुत्ते का काटना खतरनाक साबित हो सकता है। कारण कि बच्चा कमजोर होने के साथ-साथ उसकी ऊंचाई कम होती है जिससे कुत्ते उन्हें गिराकर घायल कर देते हैं।
रैबीज संक्रमित कुत्ता काटने पर बच्चों में यह रोग तेजी से फैलता है जिससे उसे बचा पाना मुश्किल होता है। बिना रोगग्रस्त कुत्ता भी बच्चों को गहरा नुकसान पहुंचा सकता है। स्थानीय निकाय विभाग कुत्तों की बढ़ती संख्या पर गाहे-बगाहे चिंता जाहिर करते हैं परन्तु धरातल पर ठोस कदम कोई नहीं उठा रहा। श्रीगंगानगर में नेपाल निवासी चौकीदार को कुत्ता काटने से उसकी 20 अक्टूबर को मौत हो गई थी। इसके बाद पार्षदों ने धरना-प्रदर्शन किया। कांग्रेस नेता अशोक चांडक और पार्षदों ने चौकीदार के परिवार को आर्थिक सहायता दी और कुत्तों पर नियंत्रण के लिए उनकी नसबंदी करवाने का आश्वासन दिया। श्रीगंगानगर नगर परिषद ने इसके लिए 48 लाख रुपए के टेंडर भी जारी कर दिए हैं जो 23 नवम्बर को खुलने हैं परन्तु यह जिलेभर की समस्या है। अन्य नगरपालिकाएं कुत्तों पर नियंत्रण के लिए गंभीर नजर नहीं आ रही।
बच्चों के लिए अधिक खतरनाक हैं कुत्ते
बच्चों के लिए अधिक खतरनाक हैं कुत्ते
-----------------
संभाग में सिर्फ बीकानेर-रायसिंहनगर में हुई नसबंदी

पिछले एक दशक में बीकानेर संभाग में कुत्तों की नसबंदी की कई बार योजना बनी परन्तु नसबंदी का काम सिर्फ बीकानेर व रायसिंहनगर में हुआ। बीकानेर में जुलाई 2019 में और रायसिंहनगर में इसी साल सितम्बर में कुत्तों की नसबंदी हुई थी।
-----------
उपकेन्द्रों पर नहीं रैबीज नियंत्रण के लिए टीके
श्रीगंगानगर जिले में चिकित्सा उपकेन्द्रों पर डॉग बाइट पर टीके लगाने की व्यवस्था नहीं है। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों और इसके उच्च श्रेणी के अस्पतालों में रोगी के जाने पर हाथोहाथ नि:शुल्क टीके लगाए जाते हैं।
-डॉ. गिरधारीलाल मेहरड़ा, सीएमएचओ, श्रीगंगानगर
-------------

बच्चों का रखें खास खयाल
आमजन को बच्चों का खास खयाल रखना चाहिए। कारण कि रैबीज लाइलाज बीमारी है और बच्चों में यह तेजी से फैलती है। कुत्ता जितना गर्दन के नजदीक काटेगा खतरा उतना अधिक रहेगा। कुत्ता काटते ही 24 घंटे के भीतर टीकाकरण शुरू करवा देना चाहिए।
-डॉ.जतिन नागल, शिशु रोग विशेषज्ञ, राजकीय जिला चिकित्सालय, श्रीगंगानगर
------------

पशुपालन विभाग सहयोग को तैयार
कुत्तों पर नियंत्रण सिर्फ नसबंदी के जरिए ही हो सकता है। विभाग इसमें हर तरह के सहयोग के लिए तैयार है। हालांकि यह काम स्थानीय निकाय विभाग है जो एक्सपट्र्स के जरिए ही संभव है।
-डॉ.रामवीर शर्मा, संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग, श्रीगंगानगर

-----------
रायसिंहनगर में कर चुके 1000 कुत्तों की नसबंदी

हमने इसी साल सितम्बर में रायसिंहनगर में 1000 कुत्तों की नसबंदी की थी। हमारे पास एक्सपट्र्स की टीम मौजूद है। कुत्तों की नसबंदी के लिए शहर से बाहर गैर आबादी क्षेत्र में यह काम किया जाता है।
-डॉ.लविश नेहरा, संस्थापक,संतुलन जीव कल्याण संस्थान, नई दिल्ली
-----------------

वर्ष डॉग बाइट
2018--19 हजार 801

2019--08 हजार249
2020--14 हजार 953

2021--13 हजार 182

(स्रोत: चिकित्सा विभाग, श्रीगंगानगर)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Antrix-Devas deal पर बोली निर्मला सीतारमण, यूपीए सरकार की नाक के नीचे हुआ देश की सुरक्षा से खिलवाड़Delhi Riots: दिलबर नेगी हत्याकांड में हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 6 आरोपियों को दी जमानतDelhi: 26 जनवरी पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, IB ने जारी किया अलर्टUP Election 2022 : टिकट कटने पर फूट-फूटकर रोये वरिष्ठ नेता ने छोड़ी भाजपा, बोले- सीएम योगी भी जल्द किनारे लगेंगेपंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशफिल्म लुकाछुपी-2 की शूटिंग पर बवाल, परीक्षा स्थल पर लगा दिया सेट, स्टूडेंट्स ने किया हंगामाIPL 2022 के लिए लखनऊ टीम ने चुने 3 खिलाड़ी, KL Rahul पर हुई पैसों की बरसातले. जनरल मनोज पांडे होंगे नए उप-थलसेना प्रमुख, संभालेंगे ले. जनरल सीपी मोहंती की जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.