डॉ.बंसल की याचिका खारिज, डॉ.मेहरड़ा बने रहेंगे सीएमएचओ

Krishan Ram | Publish: Sep, 20 2019 07:29:14 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

डॉ.बंसल की याचिका खारिज, डॉ.मेहरड़ा बने रहेंगे सीएमएचओ

आखिर शुक्रवार को डॉ.मेहरड़ा के पक्ष में आया फैसला

श्रीगंगानगर. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को तत्कालीन सीएमएचओ डॉ.नरेश बसंल की याचिका को खारिज कर दिया। अब श्रीगंगानगर सीएमएचओ पद पर डॉ.गिरधारी लाल मेहरड़ा ही बने रहेंगे। डॉ.बंसल ने याचिका में दलील दी कि डॉ.मेहरड़ा का पे-ग्रेड 6600 रुपए है जबकि मेरा 7600 रुपए पे-ग्रेड है। सरकार ने तर्क दिया है कि जब आपको इस पद पर लगाया गया था, तब आपका पे-ग्रेड भी इतना ही था और इस बीच आप दो बार सीएमएचओ भी रह चुके हैं। साथ ही कहा कि जिस पोस्ट पर आपका तबादला किया गया है वो पद खाली नहीं है। कोर्ट ने माना कि जिस दिन बंसल ज्वांइन करेंगे तब से प्रेम बजाज इस पद पर नहीं रहेंगे और यह भी है कि यह पद भी बराबर का है और वेतनमान भी समान है। उल्लेखनीय है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के आदेश पर 13 जुलाई को डॉ.गिरधारी लाल मेहरड़ा ने सीएमएचओ के पद पर कार्यभार संभाला था। तब तत्कालीन सीएमएचओ डॉ.नरेश बंसल चार्ज देने के लिए नहीं आए और न ही उन्होंने जिला चिकित्सालय में उप-नियंत्रक पद पर ज्वाइन किया। वहीं, अब डॉ.बंसल के खिलाफ गद्दा खरीद प्रकरण में कार्रवाई जल्दी हो सकती है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में सीएमएचओ कुर्सी को लेकर सवा दो माह से हाईकोर्ट में चल रहा विवाद का निपटारा हो गया है। इस प्रकरण में आठ बार तारीख पर तारीख मिलती रही और बुधवार को हाईकोर्ट में वकीलों के बीच अंतिम बहस हुई। कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में इस प्रकरण को लेकर सबकी निगाहें हाईकोर्ट के निर्णय पर लगी हुई थी। अब डॉ.गिरधारी लाल मेहरड़ा के पक्ष में निर्णय होने पर इनके गुट के लोगों में खुशी देखी गई। सीएमएचओ डॉ.मेहरड़ा और डॉ.बंसल एक-दूसरे को कुर्सी को लेकर पछाडऩे के लिए दावंपेच चल रहे थे। इधर, डॉ.बंसल 22 जुलाई से मेडिकल अवकाश पर चल रहे हैं। अब इनको राजकीय जिला चिकित्सालय में डिप्टी कंट्रोलर के पद पर ज्वाइन करना पड़ेगा।

---------------------------

20 जुलाई को डॉ.बंसल को मिला था स्टे

सीएमएचओ पद से हटाए जाने के बाद डॉ.नरेश बंसल को 20 जुलाई को हाईकोर्ट से स्टे मिल गया था और उन्होंने उसी दिन शाम को अवकाश के बावजूद सीएमएचओ पद पर ज्वाइन कर लिया। 21 जुलाई को रविवार था और 22 जुलाई को जब ऑफिस खुला तो डॉ.मेहरड़ा ने एक परिपत्र का हवाला देते हुए डॉ.नरेश बंसल को निदेशालय स्तर पर उपस्थिति देने के निर्देश दिए। इस पर डॉ.बंसल निदेशालय जाने के बजाय फिर हाईकोर्ट चले गए।
आठ बार तारीख मिली, अब हुआ निर्णय

1. पहली तारीख मिली-5 अगस्त
2. दूसरी बार तारीख मिली-13 अगस्त

3. तीसरी बार तारीख मिली-19 अगस्त
4. चौथी बार तारीख मिली -26 अगस्त

5. पांचवी तारीख मिली- 2 सितंबर
6 .छठीं तारीख मिली- 6 सितंबर

7. सातवीं तारीख मिली- 11 सितंबर
8. आठवीं तारीख मिली-18 सितंबर

--

हाईकोर्ट ने डॉ.बसंल की याचिका को खारिज कर दी है और उनके तथ्यों में कोई दम नहीं था। न्यायायल ने मेरे पक्ष में फैसला सुनाया है।

डॉ.गिरधारी लाल मेहरड़ा, सीएमएचओ,चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग,श्रीगंगानगर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned