Video : श्रीगंगानगर में प्रशासन ठप, किसान सड़कों पर

किसान ने अपनी मांगो को लेकर सोमवार को जिला मुख्यालय स्थित गंगासिंह चौक पर सभा कर प्रशासन ठप कर दिया है।

By: vikas meel

Published: 11 Sep 2017, 07:25 PM IST

श्रीगंगानगर.
किसानों को कर्ज माफ करने,स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने व फिरोजपुर फीडर का जीर्णोद्धार की मांग को लेकर सोमवार को जिला मुख्यालय स्थित गंगासिंह चौक पर किसानों ने सभा कर प्रशासन ठप कर किया । अखिल भारतीय किसान सभा व किसान संघर्ष समिति सहित विभिन्न किसान संगठनों के घोषित किसान पड़ाव स्थल पर किसान काफी संख्या में शामिल हुए। इस मौके पर जय किसान आंदोलन के नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि श्रीगंगानगर का नाम किसान आंदोलन के लिए देश भर में चर्चा में रहता है। यहां के किसानों को फसलों का पूरा दाम नहीं मिल रहा है, कर्ज माफी नहीं होने के कारण देश के किसान की हालत बहुत खराब है।

 

भाजपा पर कटाक्ष करते कहा कि राष्टवाद की बात करने वाले देश के प्रधानमंत्री राजस्थान का पानी पाकिस्तान जा रहा है और यहां का किसान पानी के लिए सडक़ों पर संर्घष कर रहा है। उन्होंने कहा कि चुनाव पूर्व किए एक भी वादे को पूरा करने में मोदी सरकार नाकाम रही है। पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल ने कहा कि भाजपा सरकार व सिंचाई महकमे ने हमारे किसानों को उजाडऩे में कोई कसर नही छोड़ी है लेकिन किसानो ने अपनी ताकत के बल बर्बादी टाली है लेकिन अभी भी समस्या ज्यो की त्यों बनी हुई है इसलिए, जिले में किसानों को लामबंद करने की जरूरत है,केंद्रीय किसान कौंसिल के सदस्य श्योपत मेघवाल ने आरोप लगाया कि प्रदेश भर में किसान पड़ाव लगाकर जिला मुख्यालयों पर बैठा है लेकिन भाजपा सरकार किसान के प्रति गंभीर नही है जिसके खिलाफ किसानों का व्यापक रोष है उल्लेखनीय है कि किसान अधिकार संघर्ष समिति के राज्यव्यापी आह्वान पर एक सितंबर से कलक्ट्रेट के समक्ष किसानों का पड़ाव चल रहा है।


किसानों की मुख्य मांगे
- किसानों का कर्ज माफ़ करना
-स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करना
-आवारा पशुओं का प्रबंध करना
-फिरोजपुर फीडर का निर्माण शुरू करना
-गंगनहर में पानी का समान वितरण
-फसल बीमा क्लेम
-मूंग की खरीद के लिये केंद्र खोलना

प्रशासन रहा सतर्क

जिला प्रशासन ने कानून व्यवस्था के लिए एडीएम (शहर) वीरेंद्र वर्मा, एसडीएम यशपाल आहुजा व तहसीलदार सुरेंद्र पारीक ने दिन भर नजर बनाए रखी। पुलिस-प्रशासन ने कानून व्यवस्था के लिए पुख्ता पाबंद किए गए। पुलिस अधीक्षक ने कानून व्यवस्था के लिए पुलिस-बल तैनात किया । किसानों की संख्या को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने कलक्ट्रेट के मुख्य गेट को बंद कर रखा था और लोगों को कलक्ट्रेट में आने-जाने के लिए छोटा गेट खोल रखा था। इसी प्रकार जल संसाधन विभाग का मुख्य गेट ही बंद कर रखा था।

vikas meel
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned