scriptFear of frost, advisory issued for farmers | पाळे की आशंका, किसानों के लिए जारी की एडवाइजरी | Patrika News

पाळे की आशंका, किसानों के लिए जारी की एडवाइजरी

locationश्री गंगानगरPublished: Jan 15, 2024 07:16:27 pm

Submitted by:

Ajay bhahdur

यदि खेत के आस-पास खड़े हरे आक के पौधों की पत्तियां जली हुई मिले तो आने वाले दिनों में पाळे से नुकसान की आशंका ज्यादा रहती है

पाळे की आशंका, किसानों के लिए जारी की एडवाइजरी
अनूपगढ़. एक खेत में लहराती फसल।
अनूपगढ़. वर्तमान में चल रहे मौसम की फसलों के लिए प्रतिकूल होने की आशंका बनी हुई है। कृषि विभाग की तरफ से किसानों के लिए एडवइजरी जारी की है। संयुक्त निदेशक कृषि विस्तार जिला परिषद रमेश चंद्र बराला ने किसानों के लिए सलाह दी है कि वर्तमान में न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु के नजदीक आ रहा है। पाळा पडऩे की अनुकूल परिस्थितियों जैसे दिन में ठंड होना, उत्तरी हवाओं का धीमी गति से चलना, आसमान का बिल्कुल साफ होना, वायु में नमी कम हो तो रबी फसलों में मुख्यत: सरसों, सब्जियां व छोटे फलदार पौधों को नुकसान की ज्यादा आशंका रहती है। सरसों फसल की फलियां जिनमें दाना अपरिपक्व अवस्था में हैं, उनमें ज्यादा नुकसान हो सकता है। यदि खेत के आस-पास खड़े हरे आक के पौधों की पत्तियां जली हुई मिले तो आने वाले दिनों में पाळे से नुकसान की आशंका ज्यादा रहती है। किसानों को पाला से बचाव के लिए हल्की सिंचाई यदि फव्वारा से हो तो सबसे उपयुक्त है। नमी युक्त जमीन में काफी देर तक गर्मी रहती है। भूमि का तापमान नहीं गिरता है। इसके अतिरिक्त जिन दिनों पाला पडऩे की संभावना हो उन दिनों फसलों पर गंधक के तेजाब के 0.1 प्रतिशत घोल का छिड़काव करना चाहिए, एक लीटर गंधक के तेजाब को 1000 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टर छिड़काव करें तथा छिड़काव को आवश्यकतानुसार 10 दिन के अंतराल पर दोहरा सकते है। सरसों , गेहूं, आलू, मटर जैसी फसलों को पाले से बचाने में गंधक के तेजाब का छिड़काव करने से न केवल पाले से बचाव होता है बल्कि पौधों में पोषक तत्व एवं रासायनिक सक्रियता बढ़ जाती है,जो पौधों में रोगरोधिता बढ़ाने में एवं फसल को जल्दी पकाने में सहायक होती है।

ट्रेंडिंग वीडियो