राज्य स्तरीय स्कूली जिम्नास्टिक प्रतियोगिता में प्रतिभाओं के करतब ने बटोरी तालियां

Surender Kumar Ojha | Updated: 16 Sep 2019, 12:14:19 AM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

state level school gymnastics competitionप्रतिभाओं ने अपने प्रदर्शन न केवल अंक बटोरे बल्कि दर्शकों को यह कहने पर मजबूर कर दिया कि ऐसे खिलाडिय़ों के आगे तो इंटरनेशनल जिमनास्ट का रंग भी फीका पड़ जाएं।

श्रीगंगानगर। 64 र्वी राज्य स्तरीय स्कूली जिम्नास्टिक प्रतियोगिता के तीसरे दिन सरकारी स्कूलों की प्रतिभाओं ने अपने प्रदर्शन न केवल अंक बटोरे बल्कि दर्शकों को यह कहने पर मजबूर कर दिया कि ऐसे खिलाडिय़ों के आगे तो इंटरनेशनल जिमनास्ट का रंग भी फीका पड़ जाएं। मटका चौक राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की ओर से संचालित यह प्रतियोगिता खालसा स्कूल परिसर में प्रदेश स्तरीय कोच की अगुवाई में की जा रही है।

इन प्रतिभागियों में अधिकांश सरकारी स्कूल के छात्र छात्राएं है। सरकारी स्कूल में सीमित सुविधा और जरूरतमंद परिवार की इन बेटियों ने कभी सोचा होगा कि अन्तरराष्ट्रीय खेल जिम्नास्टिक में अपना हाथ अजमाएगी। कई छात्राओं ने हवा में छलंाग और कलाबाजी से यह प्रदशित करने का प्रयास किया उनकी प्रतिभाओं में निखारा जाएं तो इंटरनेशल लेवल पर देश का नाम रोशन कर सकती है।

कई छात्र व छात्राओं के प्रदर्शन में कोचिंग का अभाव भी देखने को मिला। जिला मुख्यालय पर भी इस खेल का कोच नहीं होने के कारण जिले की टीम खास प्रदर्शन नहीं कर पा रही है।
कई खिलाडिय़ों ने अपने नाम की बजाय समस्या का जिक्र किया। इन खिलाडिय़ों का कहना था कि उनके स्कूल में वाल्टिंग टेबल तक नहीं है। जिमनास्टिक में वाल्टिंग टेबल पर समरसाल्ट करने के लिए स्प्रिंग बोर्ड होता है, इस पर जंप मारने से खिलाड़ी हवा में उछलता है, ऊंचे हवा में उछलने पर अंक मिलते है।

लेकिन कई खिलाड़ी उस स्तर पर प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे जितनी अपेक्षा थी। इस स्प्रिंग बोर्ड पर जंप मारने के बाद उछलने का बैलेंस नहीं बन रहा था। यही हाल पैरलर बार पर कई छात्राओं में देखने को मिला। वे भी आशा अनुरुप प्रदर्शन नहीं कर पा रही थी, बार बार बैलेंस टूटने के कारण वे नीचे गिर रही थी। हालांकि उनके कोच बार बार अपने नेचुरल प्रदर्शन करने के लिए हूंटिंग भी कर रहे थे।
----
17 वर्षीय छात्रा वर्ग में नागौर टीम अव्वल रही। निर्णायक मंडल की ओर से जारी किए परिणाम के अनुसार नागौर की टीम ने 214.65 अंक लेकर अपना परचम लहराया। इसी प्रकार अजमेर ने 111.95 अंक लेकर द्वितीय स्थान, जोधपुर टीम ने 69.80 अंक लेकर तृतीय स्थान प्राप्त किया। इस इंवेट में नागौर टीम की खिलाड़ी सरोज डूडी पुत्र हप्पाराम सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रही। इस छात्रा के प्रदर्शन पर दर्शकों और अन्य प्रतिभागियों ने जकर तालियां बजाई।
17 वर्षीय छात्र वर्ग में अलवर प्रथम, देवेन्द्र सैनी सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी
इस वर्ग में अलवर की टीम का दबदबा कायम रहा। प्रतियोगिता के मीडिया प्रभारी सुनील दामड़ी ने बताया कि इस वर्ग में अलवर की टीम ने 240.17 अंक लेकर प्रथम स्थान पर रहा। जबकि जोधपुर ने 213.11 अंक लेकर दूसरा और उदयपुर ने 200.42 के साथ तीसरा स्थान प्राप्त किया। इस वर्ग में अलवर टीम के खिलाड़ी देवेन्द्र सैनी पुत्र सुरेश सैनी सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned