पहले सड़क निर्माण करो, फिर नई रोड कटिंग

-प्रभावित इलाके के लोगों की नहीं हो रही सुनवाई

By: pawan uppal

Published: 16 May 2018, 09:23 AM IST

श्रीगंगानगर.

शहर में सीवरेज व पानी की पाइप लाइन डालने का कार्य एक साथ किया जा रहा है। शहर में सीवरेज का 550 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट है। आरयूआईडी ने इस कार्य को एलएनंटी कंपनी को दिया है। एलएनटी ने शहर में जगह-जगह सड़क खुदाई कर बीच में ही काम छोड़ रखा है। आरयूआईडीपी ने सीवरेज प्रभावित इलाकों में दस दिन में सड़क निर्माण का दावा किया था, लेकिन कुछ समय बाद दावे की हवा निकल गई।

शहर की विभिन्न कॉलोनी के लोग छह माह से सड़क निर्माण नहीं होने का दर्द सहन कर रहे हैं। इनकी कहीं पर भी सुनवाई नहीं हो रही है। इस कारण जनता में आरयूआईडीपी व एलएनटी कंपनी के प्रति आकोश बढ़ता जा रहा है। कई कॉलोनियों के लोगों ने कंपनी के खिलाफ धरना-प्रदर्शन तक किया है।


आरयूआईडीपी के तकनीकी अधिकारियों का कहना है कि अब सीवरेज इलाकों में पहले सड़क निर्माण करवाया जाएगा। इसके बाद आगे के कार्य के लिए खुदाई की अनुमति दी जाएगी। पहले चल रहा कार्य पूरा नहीं होने पर नए कार्य की अनुमति नहीं दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि एलएनटी जानी-मानी कंपनी है, लेकिन वह बेहतर तरीके से कार्य कर नहीं रही। इस कारण आरयूआईडीपी के अधिकारी भी परेशान हैं।


अभी कई दिन और लगेंगे
शंकर कॉलोनी व बसंती चौक एरिया क्षेत्र में लंबे समय से सीवरेज व पानी की पाइप लाइन डाली हुई है, लेकिन सड़क का निर्माण कार्य नहीं करवाया जा रहा है। इस कारण वाहनों का गुजरना मुश्किल हो रखा है। आरयूआईडीपी के अनुसार शहर में अभी तक 27 किलोमीटर सड़क का निर्माण करवाया है और दस किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य करना शेष है। सड़क निर्माण से पहले इंटर कनेक्शन, मैन हॉल आदि का कार्य करना होता है। इस कारण सड़क निर्माण में समय लग रहा है। इस कार्य में 25 दिन और लग सकते हैं।

पहले वाला कार्य करना होगा पूरा
शहर में सीवरेज व पानी की पाइप लाइन डालने का कार्य चल रहा है। समय पर सड़क का निर्माण कार्य नहीं हो पाया है। पहले के कार्य में बची हुई दस किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य करने के बाद ही नई रोड कटिंग करने की अनुमति
दी जाएगी।
दलीप गौड़, अधीक्षण अभियंता, आरयूआईडीपी, श्रीगंगानगर।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned