मशीन पर अगूंठा लगवाकर हजारों रुपए किए पार!

Jai Narayan Purohit | Updated: 20 Sep 2019, 12:29:09 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

Fraud : कस्बे से करीब दस किलोमीटर दूर गांव नौ एफएफ बड़ोपल में लोन देने के नाम पर हजारों रुपए की ठगी का मामला सामने आया है।

-श्रीकरणपुर के गांव नौ एफएफ बड़ोपल का मामला, लोन देने के नाम पर हुई ठगी, ग्रामीणों ने पुलिस को दिया परिवाद

श्रीकरणपुर. कस्बे से करीब दस किलोमीटर दूर गांव नौ एफएफ बड़ोपल में लोन देने के नाम पर हजारों रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। गुरुवार रात करीब आठ बजे वहां से आए कई ग्रामीणों ने इस संबंध में पुलिस को लिखित शिकायत की। पुलिस के मुताबिक जांच के बाद ही मामले में आगामी कार्रवाई होगी।

यह है मामला...
ग्रामीण हरदीप सिंह, कुलविंद्र सिंह, शमशेर सिंह, मनदीप कौर, प्रदीप कौर, निम्मी कौर आदि ने बताया कि तीन दिन पहले उनके गांव में दो व्यक्ति आए और एक घर में ग्रामीणों को इक_ा कर लिया। खुद को कस्बे की एक फाइनेंस कंपनी का प्रतिनिधि बताते हुए 40 हजार रुपए का लोन 1607 रुपए की मासिक किस्त पर देने की पेशकश की। दिहाड़ी मजदूरी करने वाले पीडि़त ग्रामीणों ने बताया कि घर में रुपयों की जरूरत के मद्देनजर उन्होंने लोन की इच्छा जताई। तो उनसे आधार कार्ड, बैंक खाते की कॉपी, पहचान पत्र और राशन कार्ड आदि की कॉपी भी आरोपियों ने ले ली।

मोबाइल करवाए स्विच ऑफ और...
घटनाक्रम के मुताबिक गुरुवार सुबह दोनों व्यक्ति फिर से गांव पहुंचे और लोन की प्रक्रिया पूरी करवाने के लिए ग्रामीणों को एक मशीन पर अगूंठा लगाने के लिए कहा। इस दौरान ग्रामीणों के मोबाइल भी स्विच ऑफ करवा दिए। ग्रामीणों ने बताया कि आरोपियों के जाने के कुछ देर बाद मोबाइल ऑन करने पर खाते से रुपए निकलने का मैसेज आया तो उनके होश उड़ गए।

घटनाक्रम से घबराए ग्रामीण दोपहर को कस्बे में पहुंचे और खाते के मुताबिक ओबीसी, सिंडीकेट व पंजाब एंड सिंध बैंकों में पहुंचकर रुपए निकलने के बारे में जानकारी ली। लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा। पुलिस को दिए परिवाद में हरदीप सिंह ने नौ हजार चार सौ रुपए, प्रदीप कौर ने एक हजार रुपए, मनदीप कौर ने तीन हजार छह सौ रुपए व निक्की कौर ने एक हजार नौ सौ रुपए धोखाधड़ी से निकलने की शिकायत की।

परिवाद देने में भी आई परेशानी...
धोखाधड़ी का शिकार हुए ग्रामीणों को पुलिस थाने में भी परेशानी का सामना करना पड़ा। जानकारी के अनुसार गुरुवार रात करीब आठ बजे महिलाओं व बच्चों के साथ आए ग्रामीणों ने एसआइ रामभज को व्यथा बताते हुए परिवाद दिया। लेकिन मौके पर घटनाक्रम संबंधी कोई सबूत नहीं होने पर उन्होंने परिवाद लेने में आनाकानी की। आखिरकार कुछ लोगों के हस्तक्षेप के बाद परिवाद लिया गया। उधर, सीआइ राजकुमार राजोरा ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मामले में कार्रवाई की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned