भारतीय क्षेत्र में मार गिराए पाक ड्रोन का मलबा फतूही के पास खेतों में मिला, सेना का तलाशी अभियान जारी

https://www.patrika.com/sri-ganga-nagar-news/

श्रीगंगानगर। पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा। रैकी के लिए शुक्रवार व शनिवार को श्रीगंगानगर सेक्टर में पाकिस्तानी ड्रोन ने कई बार भारतीय क्षेत्र का उल्लंघन किया तो सीमा सुरक्षा बल ने हर बार गोलीबारी कर उसे खदेड़ दिया। शनिवार शाम को सैन्य बलों ने पाक के ड्रोन को भारतीय सीमा में मार गिराया था। घटना के बाद शनिवार शाम को सर्च अभियान चलाया गया लेकिन रात होने के कारण कुछ नहीं मिला।

 

रविवार सुबह फिर चले सर्च अभियान में गांव फतूही के आसपास के खेतों में पाक ड्रोन का मलबा मिला है। सैन्य बलों की ओर से अभी सर्च अभियान चलाया जा रहा है। गांवों में पूर्णतया शांति का माहौल है। खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सेना के राडार पर हिन्दुमलकोट और उसके आसपास के इलाके में पाकिस्तानी ड्रोन की गतिविधि पकड़ में आने पर सीमा सुरक्षा बल को सतर्क किया गया। उसके बाद सीमा क्षेत्र में रुक-रुक कर गोलीबारी होती रही। शनिवार सुबह साढ़े पांच बजे के आसपास गोलीबारी के साथ तेज धमाके भी हुए। उस समय पाकिस्तानी ड्रोन सीमा सुरक्षा बल की रेणुका सीमा चौकी आसपास मंडरा रहा था। बल के जवानों की ओर से एलएमजी से फायारिंग की गई। शाम को फिर आए एक ड्रोन को सैन्य बलों ने मार गिराया था। रविवार सुबह सर्च अभियान में फतूही गांव के समीप खेतों में ड्रोन के टुकड़े मिले हैं। इलाके में सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

 

शनिवार रात तक सुने गए धमाके
भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे गांवों में शनिवार रात लगातार धमाके सुनाई दे रहे हैं। सुरक्षा की दृष्टि से धार्मिक स्थलों से की गई मुनियादी के बाद लोगों ने घरों के बाहर जल रही लाइटें बुझा दी हैं। जिन सीमावर्ती गांवों में शादियां हैं वहां रोशनी के लिए लगाई गई विद्युत लडिय़ों को बुझा दिया गया है। लगातार दूसरे दिन धमाकों की आवाज सुनाई देने पर सीमावर्ती गांवों में लोग जागकर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि फिलहाल बीएसएफ ओर सेना की ओर से अभी तक उन्हें कुछ भी नहीं कहा गया है। इससे पहले जब भी युद्ध की स्थिति बनी है तो सेना और बीएसएफ के कहने पर उन्होंने कीमती सामान और पशुओं के साथ सुरक्षित ठिकानों की ओर पलायन किया है।

 

रात भर जागे ग्रामीण
गोलीबारी और धमाकों की आवाज सीमावर्ती गांव रोहिड़ांवाली, 5 एच, मदेरां और रेणुकां में सुनाई दी। मदेरां के ग्रामीणों ने बताया कि गोलीबारी शक्रवार रात साढ़े ग्यारह बजे शुरू हुई और रात भर रुक-रुक कर चलती रही। गोलीबारी की आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकल आए और पूरी रात जागते हुए गुजारी। रेणुका में ग्रामीणों ने बताया कि सुबह साढ़े पांच बजे के आसपास जोरदार धमाके सुनाई दिए। धमाकों की आवाज ऐसी थी जैसे तोप के गोले फटे हों।

 

ग्रामीणों से की अपील
पाकिस्तानी ड्रोन के भारतीय सीमा में गिरने की संभावना के चलते सेना ने शनिवार सुबह सीमावर्ती गांव कोनी और फतूही के बीच खेतों में सर्च ऑपरेशन चलाया। इस ऑपरेशन से पहले सीमावर्ती गांवों में यह मुनियादी करवाई गई कि खेतों में संदिग्ध वस्तु मिलने पर इसकी सूचना तुरंत सीमा सुरक्षा बल या पुलिस को दी जाए। सेना का सर्च ऑपरेशन चार-पांच घंटे चला। इस दौरान लोगों को उस इलाके के आसपास नहीं आने दिया गया। गोलीबारी और ड्रोन को लेकर सेना के अधिकारियों ने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी भी इस घटना पर चुप्पी साधे हुए हैं। पूछने पर उन्होंने इतना ही कहा कि जो कुछ भी हुआ सीमा पार पाकिस्तानी इलाके में हुआ है।

jainarayan purohit
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned