राजकीय मेडिकल कॉलेज...ड्राइंग फाइनल,डीपीआर के बाद शुरू होगा निर्माण कार्य

-एक सप्ताह में तैयार होगी डीपीआर,15 दिन में मांगी जाएंगी निविदाएं
-325 करोड़ की लागत से जिला मुख्यालय पर बनेगा मेडिकल कॉलेज

By: Krishan chauhan

Published: 21 Jan 2021, 09:31 AM IST

राजकीय मेडिकल कॉलेज...ड्राइंग फाइनल,डीपीआर के बाद शुरू होगा निर्माण कार्य

-एक सप्ताह में तैयार होगी डीपीआर,15 दिन में मांगी जाएंगी निविदाएं
-325 करोड़ की लागत से जिला मुख्यालय पर बनेगा मेडिकल कॉलेज

श्रीगंगानगर. राजकीय मेडिकल कॉलेज की सीपीआर फाइनल हो गई है। अब जल्द ही मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य शुरू होगा। इसको लेकर मंगलवार को जयपुर में मीटिंग हुई। इसमें मेडिकल कॉलेज की ड्राइंग पर विस्तृत चर्चा कर ड्राइंग बुधवार को फाइनल की गई। कॉलेज निर्माण के बाद क्षेत्र की जनता को उपचार के लिए बीकानेर व जयपुर नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही यहां पर रोजगार की अपार संभावनाएं बढ़ेगी। कॉलेज निर्माण लिए 325 करोड़ रुपए पहले से ही स्वीकृत हैं।
राज्य सरकार के चिकित्सा शिक्षा विभाग से जुड़े अधिकारियों ने ड्राइंग पर विस्तृत कर स्वीकृति कर दी है। अब मेडिकल कॉलेज निर्माण के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जाएगी। जयपुर में हुई मीटिंग में चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव सिद्धार्थ महाजन,पीएमओ डॉ.बलदेव सिंह चौहान और डीसी डॉ.प्रेम बजाज सहित आरएसआरडीसी के अधीक्षण अभियंता आदि भी शामिल हुए। आइएएस वैभव गैलरिया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा में शामिल हुए। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट घोषणा में श्रीगंगानगर जिले में मेडिकल कॉलेज निर्माण की घोषणा की थी।

—---------------------—
ड्राइंग एप्रूव्ड,अब डीपीआर

आरएसआरडीसी के परियोजना निदेशक बीएस स्वामी के अनुसार मेडिकल कॉलेज का आठ मंजिला जी प्लस सेवन का भवन बनेगा। प्रस्तावित भवन की ड्राइंग एप्रूव्ड हो चुकी है। अब इसकी डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इसमें भवन निर्माण,फर्नीचर,उपकरण सहित अन्य व्यवस्थाओं पर कितनी राशि खर्च होगी इसकी डिटेल रिपोर्ट तैयार होगी। डीपीआर तैयार होने के बाद भवन निर्माण के लिए निविदाएं आमंत्रित की जाएगी। राजस्थान स्टेट रोड डवलपमेंट एंड कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आरएसआरडीसी) की ओर से मेडिकल कॉलेज भवन के लिए प्रांरभिक प्रोजेक्ट पीपीआर तैयार कर ड्राइंग स्वीकृत हो चुकी है।
—----------------------

कॉलेज के लिए पर्याप्त भूमि,नौ बीघा अतिरिक्त ली
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से सूरतगढ़ रोड स्थित जिला चिकित्सालय परिसर में 9.043 हेक्टेयर जमीन का कुछ माह पहले सरकारी मेडिकल कॉलेज के नाम से यूआइटी से पट्टा जारी करवा लिया गया। इसकी स्थानीय निकाय विभाग जयपुर से स्वीकृति मिल चुकी है। मेडिकल कॉलेज के लिए चिन्हित 9.046 हेक्टेयर भूमि का आकार एक लाख 9 हजार 201 वर्ग गज है। स्टाफ क्वार्टर के लिए जिला प्रशासन ने यूआइटी से मेडिकल कॉलेज के नाम से नौ बीघा भूमि सद़्भावना नगर स्थित सांई मंदिर के सामने ली है। यहां स्टाफ के लिए क्वार्टर बनाए जाने प्रस्तावित हैं।

—-------------------------
तीन सौ पचास बैड का और बनेगा अस्पताल

जिला चिकित्सालय में 350 बैड की क्षमता है। इसके लिए पर्याप्त जमीन भी उपलब्ध है। नजदीक सरकारी मेडिकल कॉलेज नहीं होने से श्रीगंगानगर में मेडिकल कॉलेज बनाने की आवश्यकता है तथा मेडिकल कॉलेज के सभी मापदंड भी पूरा कर रहा है। मेडिकल कॉलेज के साथ वर्तमान में 350 बैड का अस्पताल है इतने ही बैड का अस्पताल और बनने से अस्पताल की क्षमता 700 बैड की हो जाएगी।
—------------------

श्रीगंगानगर में मेडिकल कॉलेज के ये होंगे फायदे
मेधावी विद्यार्थियों के सपनों को मिलेगी उड़ान

चिकित्सा की पढ़ाई करने वाले बच्चे-बच्चियों को सरकारी मेडिकल कॉलेजों में दाखिले से विद्यार्थियों के साथ उनके अभिभावकों का भी सपना पूरा होगा। सरकारी मेडिकल कॉलेज के अभाव में उन विद्यार्थियों को ज्यादा नुकसान होता था जो मेधावी तो थे लेकिन आर्थिक तंगी के चलते भारी भरकम फीस वाले प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में दाखिला नहीं पाते थे। अब ऐसे विद्यार्थियों के सपनों को नई उड़ान मिलेगी।
—--------------फैक्ट फाइल

मेडिकल कॉलेज पर राशि खर्च होगी-325 करोड़ रुपए
केंद्र सरकार का हिस्सा-60 प्रतिशत

राज्य सरकार का हिस्सा-40 प्रतिशत
केंद्र सरकार का हिस्सा-195 करोड़

राज्य सरकार का हिस्सा-130 करोड़
मेडिकल कॉलेज निर्माण को लेकर जयपुर में मीटिंग हुई। इसमें सीपीआर फाइनल कर दी गई है और बुधवार को ड्राइंग भी स्वीकृत कर दी गई।

-डॉ.बलदेव सिंह चौहान,पीएमओ,राजकीय जिला चिकित्सालय,श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned