मासूमों को घेर रही 'दिल की बीमारी

-राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन मासूमों को मिली जिंदगी

By: pawan uppal

Published: 12 Mar 2018, 06:54 AM IST

श्रीगंगानगर.

जिले के विभिन्न इलाकों में मासूमों को दिल की बीमारी घेर रही है। जी हां, जिले के कई इलाकों में मासूमों के दिल में छेद के मामले सामने आ रहे हैं। शुरुआत में इन बच्चों को परेशानी आने पर परिजनों ने इसे निमोनिया अथवा सांस की सामान्य परेशानी समझा, वहीं राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम ने जांच की तो पाया कि इन मासूमों को दिल में छेद जैसी गंभीर बीमारी है। ऐेसे कई मामले इन दिनों जिले में सामने आए हैं। इनमें अधिकांश मामले घड़साना क्षेत्र के हैें। यहां आरबीएसके टीम ने अब तक ऐसे 57 बच्चों को चिन्हित किया है। इनमें से 14 का नि:शुल्क ऑपरेशन के जरिए और 11 का दवाओं के जरिए उपचार करवाया गया है। वहीं आठ बच्चों का शीघ्र ही ऑपरेशन करवाया जाएगा।

पेंशन प्रकरणों का त्वरित निस्तारण करें

होता है नि:शुल्क उपचार
घड़साना में हृदय रोग से पीडि़त बच्चों को चिन्हित कर उनका नि:शुल्क उपचार राज्य के प्रतिष्ठित निजी चिकित्सालयों में करवाया जा रहा है। बच्चों की सामान्य जांच के बाद जिला मुख्यालय पर प्रत्येक माह 28 तारीख को मनाए जाने वाले हृदय दिवस पर इनकी नि:शुल्क इको जांच करवाई जाती है। गंभीर बीमारी सामने आने पर तत्काल ऑपरेशन के लिए जयपुर रैफर करते हैं। वहीं आठ बच्चों का शीघ्र ही ऑपरेशन करवाया जाएगा।

 

अब किराएदारों को भी खंगालेगी पुलिस

कर रहे हैं इलाज
'एमडी नवीन जैन के निर्देशन में आरबीएसके के तहत मासूमों के रोगों का उपचार किया जा रहा है। जिले की टीमें सराहनीय कार्य कर रही हैं। परिजनों को टीम का सहयोग करना चाहिए ताकि बच्चों की जिंदगी बचाई जा सके।Ó
डॉ. वीपी असीजा,
प्रभारी, आरबीएसके

 

यहां भी पढ़े

जिले के तीस सरकारी स्कूलों के पोषाहार में 'घालमेल' https://goo.gl/5GT2Gz

दुग्धाभिषेक के बाद सजाई झांकियां https://goo.gl/9KujpD

खुर्द-बुर्द हो चुके वाहनों के मालिकों को राहत देगी 'एमनेस्टी' योजना https://goo.gl/6MxdG1

नशीला पेय पिला कर लूटने वाली महिला चढ़ी पुलिस के हत्थे https://goo.gl/8X6Tf7

 

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned