Video: यहां शिकायत लेकर जाने में भी महिलाओं को लगता है भय

महिलाओं की सुरक्षा करने व उनकी शिकायत सुनकर पीड़ा हरने के लिए कबाड़ खाने में खोला गया महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र में खुद कबाड़ हो गया है।

By: pawan uppal

Updated: 04 Jan 2018, 08:36 AM IST

श्रीगंगानगर.

महिलाओं की सुरक्षा करने व उनकी शिकायत सुनकर पीड़ा हरने के लिए कबाड़ खाने में खोला गया महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र में खुद कबाड़ हो गया है। यहां शिकायत लेकर जाने वाली महिलाओं को कबाड़ भय सा लगने लगता है। जानकारी के अनुसार वर्ष 2014 में कोतवाली के पीछे की तरफ पुराने यातायात कार्यालय के समीप महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र खोला गया। जिसका संचालन जयपुर की एक संस्था की ओर से किया जा रहा है।

केन्द्र के लिए यहां एक कमरा दिया हुआ है। इस कमरे में केन्द्र प्रभारी व दो-तीन पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। केन्द्र की ओर से घरेलू हिंसा से परेशान महिलाओं व अन्य परिवार के विवादों की शिकायतें सुनना और परिवादों के आधार पर महिलाओं को सलाह एवं सुरक्षा मुहैया कराना है। पिछले करीब चार से यह केन्द्र कोतवाली के कबाड़ खाने में संचालित है। यहां जाने के लिए महिलाओं को पहले महिला थाने के गेट से अंदर जाकर कोतवाली के गेट के सामने से होते हुए महिला बैरक के पास से पीछे की तरफ जाना पड़ता है।

जहां कई पुराने जर्जर वाहन खड़े हैं। अंदर जाने पर वहां एक गेट के पास महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र का बोर्ड लगा हुआ है। इस गेट में घुसने के बाद सुनसान चौक में दर्जनों जर्जर बाइक खड़ी है। इससे आगे जाने पर भवन में एक कमरे के बाद महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र लिखा हुआ है। जहां कुछ कुर्सियां व एक टेबल रखा है। इसमें केन्द्र प्रभारी व दो-तीन पुलिसकर्मी मौजूद रहते हैं। हालात ये हैं कि यहां आने में अकेले व्यक्ति को भी कुछ समझ नहीं आता है तो एक पीडि़त महिला यहां तक कैसे पहुंचती होगी। यहां कबाड़ खाने की तरफ जाते ही महिलाओं को भय लगता है।

बाहर नहीं है केन्द्र का बोर्ड महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र की तरफ जाने वाले रास्ते में कोतवाली के आसपास कोई बोर्ड बाहर नहीं लगा हुआ है। इससे केन्द्र कहां है, इसका लोगों को पता ही नहीं चल पाता है। काफी अंदर जाने के बाद ही लोगों को कबाड़ खाने के बाहर केन्द्र का एक बोर्ड लगा मिलता है।

इनका कहना है

वर्ष 2014 से कोतवाली के बगल की तरफ कबाड़ खाने में केन्द्र संचालित हो रहा है। केन्द्र का भवन अन्य स्थान पर करने के लिए अधिकारियों को लिखित में दिया हुआ है लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है। जल्द ही कार्यालय बदलने की उम्मीद है। वंदना गौड़, प्रभारी महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र श्रीगंगानगर।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned