सीसीटीवी फुटेज की जांच में बच्ची से ज्यादती का मामला निकला फर्जी, एक युवक ने फैलाई थी अफवाह

- पुलिस ने लोगों की पिटाई से घायल व्यक्ति को इलाज करवाकर घर भेजा

श्रीगंगानगर. पुरानी आबादी एरिया में गुरुवार शाम को घर में घुसकर बालिका से ज्यादती के मामला पुलिस की ओर से की गई सीसीटीवी कैमरों की जांच में झूठा पाया गया। यह पूरा घटनाक्रम एक शरारती युवक की ओर से अफवाह फैलाने से हुआ था। पुलिस ने लोगों की पिटाई से घायल हुए व्यक्ति को इलाज करवाकर उसके परिजनों को सौंप दिया। पुलिस अभी मामले में गहराई से जांच कर रही है। बालिका की मेडिकल जांच में भी कुछ नहीं निकला है।


महिला सेल के डीएसपी राहुल यादव ने बताया कि गुरुवार शाम को पुरानी आबादी इलाके में एक घर में घुसकर सात साल की बच्ची से ज्यादती करने के मामले की अफवाह फैलने पर कुछ लोगों ने शिवराज चौहान उर्फ टिल्लू को उसके घर से निकालकर मारपीट कर घायल कर दिया और पुलिस को सौंप दिया था।

पुलिस ने घायल को हिरासत में लेकर इलाज के लिए राजकीय चिकित्सालय में पहुंचाया था। इस संबंध में बच्ची के परिजनों की ओर से उसके खिलाफ महिला थाने में पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने बच्ची को राजकीय चिकित्सालय में भर्ती करावाया था। इस मामले को लेकर इलाके में काफी हंगामा हुआ था।


शुक्रवार को पुलिस ने बालिका का मेडिकल कराया। मेडिकल जांच में ऐसा कुछ नहीं मिला। मामले को लेकर पुलिस ने बच्ची के घर के सामने लगे सीसीटीवी कैमरों की रिकॉर्डिंग को खंगाला। जब पुलिस अधिकारियों ने वीडियो रिकॉर्डिंग देखी तो शिवराज मकान के अंदर ही नहीं गया था।

जबकि वहां मामला कुछ और ही निकला। सीसीटीवी फुटेज की रिकॉर्डिंग में शिवराज का मामले में कोई शामिल होना नहीं पाया गया। पुलिस ने दोपहर तक इलाज के बाद शिवराज को थाने लाकर उसके परिजनों को सौंप दिया गया। पुलिस इस मामले में अफवाह फैलाने वाले के संबंध में जांच कर रही है।


कैमरे ने बचा लिया शिवराज
- डीएसपी यादव ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे की रिकॉडिँग में सामने आया है कि गली में शिवराज 6.51 बजे आया था और वहां सडक़ पर खेल रही बच्ची को गोद में उठाकर लाड लडाया। इसके बाद उसे नीचे उतार दिया। वह बच्ची को टॉफी देने के लिए 17 सैकेंड तक चौकी पर खड़ा रहा।

जहां अन्य बच्चे भी आ गए थे। वह गली के अन्य बच्चों के साथ ही वहां से निकल गया और अपने घर जाकर सो गया था। 7.25 तक वहां कोई हंगामा या हलचल नहीं थी। इसके बाद एक युवक ने वहां अफवाह फैला दी और हंगामा खड़ा कर दिया। गली के लोग उसके घर पहुंच गए और उसके कमरे का दरवाजा तोडकऱ उसकी पिटाई करने लगे। मौके पर जमा हुए लोगों व पुलिसकर्मियों ने उसको छुड़ाया।

Raj Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned