स्टेडियम परिसर में इनडोर हॉल को मरम्मत का इंतजार

शहर में सरकारी स्तर पर खेल सुविधाएं तो दी गई हैं लेकिन देखरेख के अभाव में ये बेकार होती जा रही है।

By: vikas meel

Published: 24 May 2018, 09:12 PM IST

-शीशे हो चुके बुरी तरह क्षतिग्रस्त
-वुडन फ्लोर भी बंटाधार

श्रीगंगानगर.

शहर में सरकारी स्तर पर खेल सुविधाएं तो दी गई हैं लेकिन देखरेख के अभाव में ये बेकार होती जा रही है। शहर में होने वाले बड़े इनडोर खेल आयोजनों के लिए महाराजा गंगासिंह स्टेडियम परिसर में बना इनडोर स्टेडियम अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। स्टेडियम के निर्माण के समय लगा था कि खेल प्रेमियों को इससे सुविधा होगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं। निर्माण के कुछ समय बाद ही इसके शीशे जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गए वहीं इसके अंदर लगे वुडन फ्लोर के भी हाल बदहाल है। यहां खेल प्रतियोगिताओं के लिए चार कोर्ट बने हुए हैं लेकिन इसमें एक तरफ यह बुरी तरह क्षतिग्रस्त है। बाहर की तरफ बनी इसकी खिड़कियों पर लगे जाले लंबे समय से इसकी सफाई नहीं होने की गवाही देते हैं।

 

जमी है मिट्टी
स्टेडियम के वुडन कोर्ट के चारों तरफ शानदार गैलेरी बनी है लेकिन इसकी सफाई नहीं हो पाती। इस गैलरी में एक तरफ तो गुरुवार दोपहर तक भोजन समारोह के बाद फैला कचरा नजर आया। मुख्यद्वार सहित कई प्रमुख खिड़कियों के भी हाल बेहाल है। इसके अलावा कई अन्य स्थानों से भी हॉल क्षतिग्रस्त है।

 

आयोजन करवाना है तो लगवाओ बिजली
यहां प्रतिदिन करीब शाम सात बजे तक तो खेल खेले जा सकते हैं लेकिन इसके बाद यदि खिलाड़ी खेलना भी चाहें तो उन्हें सुविधा नहीं मिल पाती है। इस इनडोर स्टेडियम में बिजली का कनेक्शन नहीं है। जब भी यहां कोई आयोजन देर रात तक करवाना होता है तो आयोजक को ही बिजली कनेक्शन का प्रबंध करवाना पड़ता है।

 

नहीं मिला बजट
स्टेडियम में वुडन फ्लोर क्षतिग्रस्त है। इसके अलावा इसके शीशे भी टूटे हुए हैं। बिजली का प्रबंध भी स्टेडियम में नहीं है। लंबे समय से स्टेडियम की मरम्मत के लिए बजट नहीं मिला है, इसके बावजूद वर्तमान स्थिति में इनडोर स्टेडियम को व्यवस्थित रखने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

-उम्मेदसिंह यादव, जिला खेल अधिकारी, श्रीगंगानगर

vikas meel
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned