किसान आंदोलन के समर्थन में किसान पैदल मशाल यात्रा

-शाहजहांपुर बॉर्डर पर श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ के किसान डटे

By: Krishan chauhan

Published: 04 Mar 2021, 09:59 AM IST

किसान आंदोलन के समर्थन में किसान पैदल मशाल यात्रा

-शाहजहांपुर बॉर्डर पर श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ के किसान डटे

श्रीगंगानगर. तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से शाहजहांपुर-खेड़ा बॉर्डर पर किसान पैदल मशाल यात्रा निकाली जा रही है। यह मशाल यात्रा दुल्हेड़ा बाराह से शुरू होकर दासां, टिकरी सिंघु, गाजीपुर, पलवल होते हुए शाहजहांपुर-खेड़ा बॉर्डर पहुंची। इस यात्रा का नेतृत्व राजपाल दूबलघन, योगेंद्र शास्त्री, हंसराज दूबलघन, रामकुंवार गोच्छी, राजबीर बादली आदि ने किया।

छह मार्च को 100 दिन होने पर होगा विरोध
संयुक्त किसान मोर्चा के प्रवता डॉ. संजय माधव ने बताया कि 6 मार्च 2021 को दिल्ली बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन शुरू होने के 100 दिन हो जाएंगे। उस दिन दिल्ली व दिल्ली के अन्य बॉर्डर के विभिन्न विरोध स्थलों को जोडऩे वाले केएमपी एक्सप्रेस वे पर पांच घंटे की नाकाबंदी होगी। यहां सुबह 11 से शाम 4 बजे के बीच जाम किया जाएगा। यहां टोल प्लाजा को टोल फीस जमा करने से भी मुक्त किया जाएगा। शेष भारत में आंदोलन को समर्थन के लिए, और सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए घरों और कार्यालयों पर काले झंडे लहराए जाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रदर्शनकारियों को उस दिन काली पट्टी बांधने के लिए भी आह्वान किया है।

आठ मार्च को महिला किसान दिवस

8 मार्च को संयुक्त किसान मोर्चा महिला किसान दिवस के रूप में मनाएगा। देश भर के सभी सयुंक्त किसान मोर्चे के धरना स्थल 8 मार्च को महिलाओं की ओर से संचालित होंगे। इस दिन महिलाएं ही मंच प्रबंधन करेंगी और वक्ता होंगी। एसकेएम ने उस दिन महिला संगठनों और अन्य लोगों को आमंत्रित किया कि वे किसान आंदोलन के समर्थन में इस तरह के कार्यक्रम करें और देश में महिला किसानों के योगदान को उजागर करें।

कॉरपोरेट विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाएगा
- केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर 15 मार्च 2021 को निजीकरण विरोधी दिवस का समर्थन करते हुए सयुंक्त किसान मोर्चा ने विरोध प्रदर्शन किए जाएंगे। इस दिन को कॉरपोरेट विरोधी दिवस के रूप में देखते हुए ट्रेड यूनियनों के इस आह्वान का समर्थन करेगा, और एकजुट होकर विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। जिन राज्यों में अभी चुनाव होने वाले है,उन राज्यो में भाजपा की किसान-विरोधी,गरीब-विरोधी नीतियों को दंडित करने के लिए जनता को एक अपील करेगा। एसकेएम के प्रतिनिधि भी इस उद्देश्य के लिए इन राज्यों का दौरा करेंगे और विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेंगे। पूरे भारत में एक एमएसपी दिलाओ अभियान शुरू करेगा। अभियान के तहत विभिन्न बाजारों में किसानों की फसलों की कीमत की वास्तविकता को दिखाया जाएगा,जो मोदी सरकार व एमएसपी के झूठे दावों और वादों को उजागर करेगा।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned