लॉकडाउन: तीन माह की स्कूल फीस वसूली पर स्कूल संचालक को नोटिस

-तीन माह की स्कूल फीस चुकाना अभिभावकों के लिए मुश्किल,समस्त सीबीइओ को आदेशों की पालना करवाने के लिए किया पाबंद
-डीईओ मुख्यालय ने नोजेगे पब्लिक स्कूल व्यवस्थपक व प्राचार्य को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा

By: Krishan chauhan

Published: 18 Apr 2020, 10:28 AM IST

लॉकडाउन: तीन माह की स्कूल फीस वसूली पर स्कूल संचालक को नोटिस
-तीन माह की स्कूल फीस चुकाना अभिभावकों के लिए मुश्किल,समस्त सीबीइओ को आदेशों की पालना करवाने के लिए किया पाबंद
-डीईओ मुख्यालय ने नोजेगे पब्लिक स्कूल व्यवस्थपक व प्राचार्य को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा
श्रीगंगानगर.कोविड-19 की महामारी में तीन मई तक देश भर में लॉकडाउन है। इस कारण काम-काज व रोजगार सब कुछ बंद है। इस संकट के दौर में एक निजी स्कूल संचालक ने विद्यार्थियों से तीन माह की फीस वसूली की ऑनलाइन संदेश भेजकर कार्रवाई शुरू कर दी है। इसकी शिकायत पर शुक्रवार को जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक मुख्यालय ने नोजगे पब्लिक स्कूल के व्यवस्थापक व प्राचार्य को नोटिस जारी कर दो दिन में ई-मेल से स्पष्टीकरण मांगा है।
नोटिस में लिखा है कि देश में लॉकडाउन चल रहा है। इस दौरान शिक्षण संस्थाएं बंद है। इसके बावजूद संस्था के विद्यार्थियों से फीस से संबंधित अभिभावकों को संदेश प्रेषित किए जा रहे हैं। लॉकडाउन में मुख्यमंत्री ने निजी स्कूल व संस्थाओं को अग्रिम तीन माह तक विद्यार्थियों की फीस नहीं लेने के लिए पाबंद किया है। साथ ही हिदायत दी है कि इस दौरान ना स्कूल से किसी विद्यार्थी का नाम काटा जाए और ना ही देय सुविधाओं से वंचित किया जाए।
डीईओ ने बताया कि सामाजिक कार्यकर्ता रमजान अली चोपदार की शिकायत मिली है। इसके आधार पर आप राज्य सरकार के आदेशों की पालना नहीं कर अभिभावकों से फीस जमा करवाने के लिए व्हाटएप्प,टैक्ेस्ट मैसेज भेज कर पाबंद कर रहे हैं। डीइओ ने कहा कि क्यूं ना आपके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू की जाए। साथ ही हिदायत दी है कि तुरंत समस्त अभिभावकों को व्हाटएप्प,टैक्ेस्ट मैसेज भेज कर यह सुनिश्चित करेंगे कि लॉकडाउन से अग्रिम तीन माह तक संस्था की ओर से फीस वसूली नहीं करेंगी तथा राज्य सरकार के आदेशों की पालना करेंगी।
समस्त सीबीइओ को किया पाबंद--साथ ही डीईओ ने जिले के हर ब्लॉक के सीबीइओ को नोटिस की प्रति भेजकर पाबंद किया है कि आपके परिक्षेत्र के समसत निजी शिक्षण संस्थाओं को पाबंद किया जाए। लॉकडाउन के दौरान राज्य सरकार के स्कूल फीस से संबंध आदेशों की पालना सुनिश्चित करवाई जाए।
स्कूल बंद, फिर फीस भी होनी चाहिए माफ--एक बच्चे की एक बार तीन माह की स्कूल फीस दस हजार रुपए चुकानी होगी। स्कूल की फीस के लिए अलावा विद्यार्थियों की नई बुक्स व स्टेशनरी सामान,ड्रेस,जूते व मौजे सहित अन्य सामग्री पर हजारों रुपए खर्चा आ रहा है। इस स्थिति में स्कूल संचालक स्कूल फीस जमा करवाने का दवाब बना रहे हैं। यह अभिभावकों के लिए डबल मार से कम नहीं है। न्यू प्रेम नगर निवासी अभिभावक विजय यादव ने कहा कि स्कूल संचालकों को तीन माह की स्कूल फीस माफ करनी चाहिए।

स्कूल बंद, फिर फीस भी होनी चाहिए माफ--एक बच्चे की एक बार तीन माह की स्कूल फीस दस हजार रुपए चुकानी होगी। स्कूल की फीस के लिए अलावा विद्यार्थियों की नई बुक्स व स्टेशनरी सामान,ड्रेस,जूते व मौजे सहित अन्य सामग्री पर हजारों रुपए खर्चा आ रहा है। इस स्थिति में स्कूल संचालक स्कूल फीस जमा करवाने का दवाब बना रहे हैं। यह अभिभावकों के लिए डबल मार से कम नहीं है। न्यू प्रेम नगर निवासी अभिभावक विजय यादव ने कहा कि स्कूल संचालकों को तीन माह की स्कूल फीस माफ करनी चाहिए।

फैक्ट फाइल
जिले में निजी स्कूल-1251

हमारी तरफ से कोई मैसेज बच्चों के अभिभावकों को नहीं भेजा गया। यह बैंक से ही फीस जमा कराने का मैसेज ऑटो जनरेट हुआ है। हमारी तरफ से किसी से फीस नहीं मांगी गई है।

विशाल छींपा,पीआरओ,नोगजे पब्लिक स्कूल,श्रीगंगानगर।


स्पष्टीकरण मांगा, सीबीइओ को किया पाबंद
नोजगे पब्लिक स्कूल श्रीगंगानगर के संचालक के खिलाफ शिकायत मिली थी कि वह लॉकडाउन में अप्रेल,मई व जून माह की फीस ऑनलाइन संदेश भेजकर कर वसूल कर रहा है। इस पर नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही समस्त सीबीइओ को पाबंद किया है कि मुख्यमंत्री व शिक्षा विभाग के आदेशों की पालना जिले में हर ब्लॉक में सुनिचित की जाए।
हंसराज यादव,डीइओ माध्यमिक मुख्यालय,शिक्षा विभाग श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned