राजकीय चिकित्सालयों में घट रहे मलेरिया के रोगी

-वर्ष 2014 से 2017 तक लगातार घटी संख्या

By: pawan uppal

Published: 25 Apr 2018, 08:40 AM IST

श्रीगंगानगर.

इलाके में मच्छरों की लगातार बढ़ती संख्या के बावजूद राजकीय चिकित्सालयों में मलेरिया के रोगियों की संख्या में कमी आई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय से प्राप्त आंकड़े तो कुछ ऐसी ही कहानी बयान करते हैं। इन आंकड़ों को देखें तो वर्ष 2014 में जहां 525 मलेरिया रोगी चिकित्सालयों में पहुंचे वहीं 2017 में इनकी संख्या महज 85 ही रह गई । ऐसा नहीं है कि इलाके में मलेरिया के रोगी ही नहीं है अपितु अधिकांश रोगी निजी चिकित्सालयों में उपचार करवा लेते हैं, ऐसे में उनका आंकड़ा भी स्पष्ट नहीं हो पाता है।

इनमें से पुष्टि केवल 85 में हुई। इनमें 82 मलेरिया पीवी और तीन मलेरिया पीएफ के रोगी थे। इसी प्रकार वर्ष 2014 में 213955 रोगियों की स्लाइड जांच में से 525, वर्ष 2015 में 234762 स्लाइड में से322 में तथा वर्ष 2016 में 221589 स्लाइड टैस्ट में से 239 में ही मलेरिया की पुष्टि हो पाई है।

 

जा रहा है अन्न क्योंकि पंजाब से प्रसन्न


स्लाइड से कम में हुई पुष्टि
खास बात यह है कि राजकीय चिकित्सालयों में जितने लोगों के स्लाइड टैस्ट हुए उनमें से मलेरिया की पुष्टि काफी कम में हुई। वर्षवार आंकड़ों के अनुसार देखें तो वर्ष 2017 में दिसम्बर तक ही 203864 लोगों के स्लाइड टैस्ट किए गए। इनमें से पुष्टि केवल 85 में हुई। इनमें 82 मलेरिया पीवी और तीन मलेरिया पीएफ के रोगी थे। इसी प्रकार वर्ष 2014 में 213955 रोगियों की स्लाइड जांच में से 525, वर्ष 2015 में 234762 स्लाइड में से322 में तथा वर्ष 2016 में 221589 स्लाइड टैस्ट में से 239 में ही मलेरिया की पुष्टि हो पाई है।

 

सहायक कृषि अधिकारी की जांच रिपोर्ट कमिश्नर को


हमारे यहां घटे हैं रोगी
यदि आंकड़ों की बात करें तो राजकीय चिकित्सालयों में मलेरिया के रोगी लगातार घटे हैं। वर्ष 2017 के दिसम्बर तक महज 85 रोगियों में ही मलेरिया की पुष्टि हुई जबकि 2014 में यह आंकड़ा 525 था। वर्ष 2018 में अब तक 3274 स्लाइड टैस्ट हुए हैं। इनमें से अब तक महज दो मलेरिया पीवी के रोगी मिले हैं।
डॉ.अजय सिंगला, उपमुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, श्रीगंगानगर

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned