मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने श्रीगंगानगर में अजमाया था अपना भाग्य पर नहीं मिली सफलता

Master Bhanwarlal Meghwal tried his luck in Sriganganagar- शिक्षा मंत्री के दौरान जिले के प्रभारी मंत्री रहने की वजह से कांग्रेस ने बनाया था प्रत्याशी.

By: surender ojha

Published: 17 Nov 2020, 12:00 AM IST

श्रीगंगानगर. राज्य के कैबीनेट मंत्री दिवंगत मास्टर भंवरलाल मेघवाल का इलाके से गहरा नाता भी रहा है। करीब छह पहले कांग्रेस हाईकमान ने लोकसभा चुनाव में श्रीगंगानगर संसदीय सीट से मास्टर भंवरलाल मेघवाल को प्रत्याशी बनाया था।

लेकिन मोदी लहर शुरू होने के कारण वे जीत नहीं पाए। गहलोत सरकार में शिक्षा मंत्री बनने के बाद उनको श्रीगंगानगर जिले का प्रभारी मंत्री का दायित्व दिया गया था, इस कारण पार्टी हाईकमान ने उनको बीकानेर की बजाय श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र से चुनाव लडऩे के लिए प्रत्याशी बनाकर यहां भिजवाया था।

लेकिन यहां मोदी लहर के कारण वे अपनी हार को बचा नहीं पाए। राज्य कार्मिकों के तबादलों पर राजनीतिक बयानों की वजह से चर्चित रहे मास्टर भंवरलाल मेघवाल कांग्रेस के कदावर नेता रहे। इस बार गहलोत सरकार ने मास्टर भंवरलाल को फिर से कैबीनेट मंत्री बनाया था।

सोमवार को गुडगांव में उपचार के दौरान उनका निधन हो गया। सरकार ने मंगलवार को राजकीय अवकाश घोषित करने की घोषणा की है। पिछले सप्ताह ही उनकी बेटी की भी मृत्यु हो गई थी।
ज्ञात रहे कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय से ही भंवरलाल कांग्रेस से जुड़े थे। धीरे-धीरे उन्होंने कांग्रेस और दलितों के बीच अच्छी पैठ बना ली थी। उन्हें कद्दावर दलित नेता के रूप में जाना जाता है। शेखावाटी और बीकानेर संभाग के दलित वोट बैंक में उनकी खासी पकड़ थी।

भंवरलाल के पास फिलहाल सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता और आपदा प्रबंधन मंत्रालय था। भंवरलाल एक बेहतर प्रशासक माने जाते थे। वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पिछली सरकार में भी शिक्षा मंत्री थे। वर्तमान में चुरू की सुजानगढ़ सीट से विधायक थे। अब तक 5 बार विधायक रह चुके हैं।
पांच दिन पहले ही पत्नी पंचायत समिति की सदस्य बनी थीं। भंवरलाल के परिवार में पत्नी, एक बेटा और एक बेटी है। उनकी पत्नी केसर देवी पांच दिन पहले ही पंचायत समिति सदस्य बनी हैं।

कांग्रेस ने केसर देवी को चुरू जिले के सुजानगढ़ में शोभासर ब्लॉक में पंचायत समिति सदस्य का प्रत्याशी बनाया था। यहां वह निर्विरोध निर्वाचित हुई है।

मास्टर भंवरलाल का राजनीतिक कॅरियर 1977 से शुरू हुआ था। चूरू जिले के सुजानगढ़ विधानसभा क्षेत्र से उन्होंने 10 बार चुनाव लड़ा। जिसमें 5 बार (1980, 1990, 1998, 2008 और 2018) जीत मिली।

surender ojha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned