सजग पड़ोसी योजना-घर बंद कर बाहर जाओ तो पड़ोसी को बताओ - ख्यालीवाला गांव में हुई जनहसभागिता बैठक

Raj Singh Shekhawat | Publish: Apr, 21 2019 10:58:41 PM (IST) | Updated: Apr, 21 2019 10:58:42 PM (IST) Sri Ganganagar, Sri Ganganagar, Rajasthan, India

श्रीगंगानगर. सदर थाना क्षेत्र के गांव ख्यालीवाला में रविवार को पुलिस ने जनहसभागिता शिविर में लोगों की समस्याएं सुनी और उनको चोरी आदि रोकने के संबंध में जानकारी दी गई। जिसमें सजग पड़ोसी योजना के बारे में भी अवगत कराया गया। शिविर में सीओ सिटी इस्माइल खान व रीको चौकी प्रभारी इन्द्रसिंह सहित अन्य पुलिसकर्मी गांव में पहुंचे। यहां जनसहभागिता शिविर में ग्रामीणों से चर्चा की। इस दौरान दर्शन सिंह, सीएलजी सदस्य बृजमोहन यादव, बृजमोहन रणवां, राजेन्द्र सिंह, दुलीचंद, राजेन्द्र माहर, हरिराम माहर, उपसरपंच तोतासिंह, भागीरथ यादव व राकेश जाखड़ सहित अन्य ग्रामीण मौजूद थे। अधिकारियों ने शिविर में ग्रामीणों से उनकी समस्याएं पूछी, लेकिन गांव में कोई समस्या नहीं होना बताया गया। शिविर में ग्रामीणों को सजग पड़ोसी योजना के बारे में बताया गया। सीओ ने बताया कि जब भी कोई परिवार घर बंद करके बाहर जाए, तो पड़ोसी को बता कर जाएं। वहीं अखबार डालने वाले को भी इतने दिन अखबार के लिए बंद करके जाएं। जिससे घर के बाहर अखबार जमा नहीं हो और चोरी करने वालों को यह पता नहीं चल सके कि कोई घर में नहीं है। वहीं पुलिस अधिकारियों ने ग्रामीणों को चौकीदार रखने को प्रेरित किया। इसके अलावा पुलिस की बाल मित्र योजना के बारे में भी अवगत कराया गया। जिसमें बच्चों का पुलिस से सकारातम्क परिचय कराएं, जिससे बच्चे परेशानी होने पर पुलिस को सूचना देने में संकोच ना करें। बच्चों के बारे में गुड टच और बेड टच के बारे में बताया गया। बच्चों को चाइल्ड लाइन की छोटी मूवी कोमल देखने व दिखाने के लिए कहा गया। इसके अलावा वाहन उपयोग करते समय ड्राइवर सहित अन्य सवारियों को भी सीट बेल्ट लगाने की हिदायत दी गई। साइबर अपराध से बचने के उपाय बताए गए। ग्रामीणों से अपील की गई कि फोन पर बैंक व एटीएम, आधार कार्ड संबंधित जानकारी नहीं देे। लोकसभा चुनाव को देखते हुए ग्रामीणों से किसी प्रकार के भय, प्रलोभन, दबाव आदि के बारे में भी पूछा गया। लोगों को पुलिस की परामर्श योजना के संबंध में भी अवगत कराया गया, जिसमें थाने में एक सूचना कार्ड लगा हुआ है। जिसके अनुसार सामान्य मामलों मेे सीएलजी सदस्य के परामर्श लेकर राजीनामा व समझौता किया जा सकता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned