scriptmost of the government college principal post are vacant | जिले के अधिकांश सरकारी कॉलेजों में प्राचार्यों के पद खाली, विभागीय पदोन्नति का कर रहे हैं इंतजार | Patrika News

जिले के अधिकांश सरकारी कॉलेजों में प्राचार्यों के पद खाली, विभागीय पदोन्नति का कर रहे हैं इंतजार

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

श्री गंगानगर

Published: August 08, 2018 08:34:02 pm

श्रीगंगानगर.

जिले के अधिकांश सरकारी कॉलेज बिना ड्राइवर की गाड़ी बने हुए हैं। लंबे समय से विभागीय पदोन्नति नहीं होने से इनमें प्राचार्यों के पद नहीं भरे हैं। ऐसे में अधिकांश में व्याख्याताओं के पास ही पदभार हैं। इन व्याख्याताओं को जहां कक्षाएं संभालनी पड़ती हैं वहीं प्रशासनिक कार्य भी उन्हें स्वयं ही देखना पड़ता है। ऐसे में कामकाज प्रभावित होता है। इसके साथ ही कई बार जिला स्तरीय बैठकों आदि में भी इन प्राचार्र्यो को शामिल होना पड़ता है। ऐसे में उनका काम काज और अधिक बढ़ जाता है।

demo pic

यह है हालात

जिले के कॉलेजों की बात करें तो शहर के डॉ.भीमराव अंबेडकर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में पिछले दिनों डॉ.रामसिंह राजावत की सेवानिवृत्ति के बाद से इस पद का कार्यभार व्याख्याता डॉ.रजनीश श्रीवास्तव संभाल रहे हैं। डॉ.राजावत ने भी उप प्राचार्य रहते हुए इस पद का अतिरिक्त कार्यभार ही देखा था। ऐसेमें डॉ.राजावत को भी सेवानिवृत्ति तक विभागीय पदोन्नति का इंतजार रहा वहीं यदि विभागीय पदोन्नति मिलती है तो डॉ.रजनीश श्रीवास्तव भी प्राचार्य पद के लिए योग्य हैं। यही स्थिति चौधरी बल्लूराम गोदारा राजकीय कन्या महाविद्यालय में है।

यहां व्याख्याता डॉ.प्रदीप मोदी कार्यभार संभाले हुए हैं। विभागीय पदोन्नति होने की स्थिति में मोदी भी प्राचार्य पद के योग्य है। इसी प्रकार सूरतगढ़ के राजकीय महाविद्यालय में पीके वर्मा की सेवानिवृत्ति के बाद रमेश स्वामी कार्यवाहक के रूप में यह जिम्मेदारी देख रहे हैं। वहीं श्रीकरणपुर में यह जिम्मेदारी व्याख्याता डॉ.पीसी आचार्य के पास है। केवल सादुलशहर में मंजू गोयल और अनूपगढ़ के राजकीय महाविद्यालय में डॉ.एसएन शर्मा ही स्थाई प्राचार्य के रूप में कार्य कर रहे हैं।


बीकानेर में भी यही स्थिति

इसी प्रकार हनुमानगढ़ के नोहर और भादरा तथा बीकानेर के लूणकरणसर, खाजूवाला, डूंगरगढ़ के राजकीय महाविद्यालयों में भी अस्थाई प्राचार्य ही कार्य कर रहे हैं।

चौधरी बल्लूराम गोदारा राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.प्रदीप मोदी बताते हैं कि हालांकि कार्यवाहक प्रभार से ज्यादा परेशानी नहीं होती लेकिन व्याख्याता के रूप में दायित्व परिवहन में परेशानी अवश्य आती है। दोनों पदों में सामांजस्य बैठाना पड़ता है। विभागीय पदोन्नति होने पर कई लोग प्राचार्य बन सकते हैं। जिले में कई वरिष्ठ व्याख्याता अब भी विभागीय पदोन्नति का इंतजार कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शव31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी सर्वे मामले को टेक ओवर करेगा बोर्डआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.