मूंग की एमएसपी अच्छी,लेकिन किसानों को ज्यादा लाभ नहीं

-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले में इस वर्ष मूंग की बुवाई 2,03258 हैक्टेयर क्षेत्रफल में,जबकि गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष गुणवत्ता,उत्पादन व उत्पादकता हुई प्रभावित

By: Krishan chauhan

Updated: 17 Sep 2021, 11:16 AM IST

मूंग की सरकारी खरीद अभी शुरू नहीं हुई---मूंग की एमएसपी अच्छी,लेकिन किसानों को ज्यादा लाभ नहीं

-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले में इस वर्ष मूंग की बुवाई 2,03258 हैक्टेयर क्षेत्रफल में,जबकि गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष गुणवत्ता,उत्पादन व उत्पादकता हुई प्रभावित

श्रीगंगानगर.आइजीएनपी,भाखड़ा व गंगनहर परियोजना में पहले नहरबंदी और जून व जुलाई माह में अपर्याप्त बारिश की वजह से श्रीगंगानगर जिले में मूंग की बुवाई कम हुई। जबकि श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले में इस बार मूंग की बुवाई 2,15,086 हैक्टेयर क्षेत्रफल में हुई। सितंबर माह में हुई बेमौसम की बारिश से मूंग की फसल को नुकसान हुआ है। इस बार मूंग का भाव अच्छा है लेकिन मूंग की फसल का उत्पादन,उत्पादकता व गुणवत्ता गत वर्ष की अपेक्षाकृत कम है। इस कारण किसानों को ज्यादा लाभ नहीं मिल पाएगा। मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी 7275 रु प्रति क्विंटल है जबकि नई धानमंडी श्रीगंगानगर में गुरुवार को 180 क्विंटल मूंग की आवक हुई और भाव 5500 से 6850 रु प्रति क्विंटल तक चल रहे थे। वहीं,नहरबंदी की वजह से कॉटन की बुवाई प्रभावित हुई तो किसानों ने ग्वार व मूंग की फसल को ज्यादा महत्व दिया। इलाके मूंग की बुवाई ठीक है लेकिन समय पर सिंचाई पानी पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलने,बारिश भी नहीं होने और मूंग की फसल की पकाव पर होने और कटाई के समय बारिश होने पर किसानों को काफी नुकसान हुआ है।
——

प्रति हैक्टेयर मूंग का उत्पादन
कृषि विभाग के अनुसार मूंग का उत्पादन प्रति हैक्टेयर दस क्विंटल का आंकलन है। इस बार गत वर्ष की तुलना में मूंग का उत्पादन कम होने की संभावना है।

हनुमानगढ़ में ज्यादा,श्रीगंगानगर में कम हुई बुवाई

कृषि विभाग के अनुसार हनुमानगढ़ जिले में माह जून व जुलाई 2021 में बारिाश् होने की वजह से खरीफ 2020 की तुलना में मूंग की बुवाई अधिक हुई है। जबकि श्रीगंगानगर जिले में माह जून व जुलाई में बारिश बहुत कम होने की वजह से खरीफ 2020 की तुलना में खरीफ 2021 में मूंग की फसल की बुवाई कम क्षेत्रफल में हुई।

फैक्ट फाइल
-श्रीगंगानगर जिले में मूंग की बुवाई-1,13,286 हैक्टेयर

-गत वर्ष जिले में मूंग की बुवाई-1,47,904 हैक्टेयर
-हनुमानगढ़ जिले में मूंग की बुवाई-1,01800 हैक्टेयर

-गत वर्ष जिले में मूंग की बुवाई-55,354 हैक्टेयर
-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिले में मूंग की बुवाई-2,15,086 हैक्टेयर

-दोनों जिलों में गत वर्ष मूंग की बुवाई-2,03258 हैक्टेयर

—---—
मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य

-वर्ष 2020-21-7196 रु
-वर्ष 2021-22-7275 रु

मूंग का बाजार भाव-6850 से 5500 रु (16 सितंबर 2021)

—----------
क्यूं कर रहा मूंग की बुवाई किसान

-श्रीगंगानगर खंड में मूंग ही एकमात्र फसल है जिसकी खरीफ एवं जायद दोनों ॠतुओं में खेती की जाती है।
-मूंग की फसल अन्य खरीफ फसलों की तुलना में बहुत कम समय करीब 60-65 दिवस में पककर तैयार होती है।

-मूंग की फसल के लिए प्रति हैक्टेयर मात्र 20 किग्रा नाइट्रोजन एवं 32- 40 किग्रा फास्फोरस की आवश्यकता होती है जबकि बीटी कपास की खेती के लिए प्रति हैक्टेयर 150 किग्रा नाइट्रोजन की आवश्यकता होती है।
-मूंग की फसल मात्र एक से दो पानी में पककर तैयार हो जाती है।

इलाके में इस बार मूंग का उत्पादन,उत्पादकता व गुणवत्ता भी प्रभावित हुई है। लेकिन मूंग का बाजार भाव व एमएसपी अच्छी है। अंतिम समय में हुई बारिश से मूंग बदरंग भी हुई है।

मिलिंद सिंह,कृषि अनुसंधान अधिकारी (शस्य)कृषि विस्तार श्रीगंगानगर ।

नई धानमंडी श्रीगंगानगर में मूंग की आवक शुरू हुई है। पांच-सात दिनों में आवक में तेजी आएगी और एमएसपी से अधिक भाव रहने की संभावना है। जबकि अभी तक मूंग की सरकारी खरीद शुरू नहीं हुई है।

शिव सिंह भाटी,क्षेत्रीय प्रबंधक,कृषि विपणन बोर्ड,श्रीगंगानगर।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned