नहरबंदी-पंजाब से आ रहे दूषित व केमिकल युक्त पानी, आम व्यक्ति की सेहत से खिलवाड़

-दूषित, सेम व काला पानी को लेकर शहर के लोग आंदोलन की राह पर
-विभिन्न किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने साधुवाली में किया विरोध-प्रदर्शन

By: Krishan chauhan

Published: 07 Apr 2021, 11:12 AM IST

नहरबंदी-पंजाब से आ रहे दूषित व केमिकल युक्त पानी, आम व्यक्ति की सेहत से खिलवाड़

-दूषित, सेम व काला पानी को लेकर शहर के लोग आंदोलन की राह पर
-विभिन्न किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने साधुवाली में किया विरोध-प्रदर्शन

श्रीगंगानगर. पंजाब की नहरों से गंगनहर में आ रहे दूषित व केमिकल युक्त पानी को श्रीगंगानगर क्षेत्र के लोग पीने को मजबूर हैं। इस पानी को पीने से जिले में बहुत से लोग कैंसर सहित विभिन्न प्रकार की गंभीर बीमारियों की चपेट में आ चुके हैं। सरकार चाहे भाजपा की रही या कांग्रेस की दूषित पानी को लेकर सभी खानापूर्ति कर जनता की सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। पांच अप्रेल से गंगनहर में 25 अप्रेल तक नहरबंदी बंदी है। अब नहर में पर्याप्त पानी का भंडारण किया जा रहा है। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग शिवपुरहैड से जगह-जगह पौंड बनाकर पानी का भंडारण कर रहे हैं। जबकि पंजाब से आ रहे दूषित, बदबूदार व कैमिकल युक्त पानी का भंडारण शिवपुर हैड से साधुवाली, कालूवाला, नेतेवाला व डाबला हैड पर जगह-जगह किया जा रहा है। यह पानी पीने के काबिल नहीं है। इस पानी को लेकर शहर के लोग आंदोलन की राह पर चल पड़े हैं। दूषित पानी का मामला आम व्यक्ति की सेहत से जुड़ा हुआ है। इस कारण हर व्यक्ति दूषित पानी के आंदोलन से जुड़ रहा है।

साधुवाली पर किया विरोध-प्रदर्शन
साधुवाली पर पंजाब के पूर्व व वर्तमान मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री का पंजाब से आ रहे दूषित व केमिकल युक्त पानी का निस्तारण नहीं करने से खफा किसानों ने पुतला दहन कर विरोध किया। इस मौके पर किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता अमर सिंह बिश्नोई, किसान आर्मी के मनिंद्र सिंह मान, गुरलाल बराड़, रामेश्वर लाल कड़वासरा, राधेश्याम बिश्नोई, जीत सिंह संधू, मनोहर लाल बिश्नोई, गुरपिंदर सिंह बैंस, सतपाल बिश्नोई, रवि कुमार विश्नोई, गगन कस्वां, पवन कस्वां, चंद्र प्रताप पंवार, रामनिवास रामा व लालचंद वर्मा आदि किसानों ने तख्तियां लेकर साधुवाली नहर पर विरोध-प्रदर्शन किया। बिश्नोई ने कहा कि पंजाब की नहरों से गंगनहर में जहरीला केमिकल युक्त पानी आ रहा है। पंजाब व राज्य की कांग्रेस-भाजपा की जो भी सरकार रही किसी ने इस मुद्दे का निस्तारण करने की कोशिश नहीं की गई। कभी भी सतलुज और व्यास में पंजाब के औद्योगिक शहरों और सीवरेज का पानी रोकने का प्रयास नहीं किया। करोड़ों लोग इस पानी को पी कर कैंसर, काला पीलिया, चर्म रोगों से ग्रसित हो रहे हैं और करोड़ों की संख्या में जीव जंतु इस पानी को पी कर बीमारियों का शिकार हो रहे हैं और पर्यावरण को भयंकर नुकसान हो रहा है।

नहरों में आ रहे दूषित जल के विरोध में बैठक

दूषित जल-असुरक्षित कल जनजागरण अभियान समिति की नहरों में आ रहे दूषित जल के विरोध में शहर के लोगों की तपोवन ट्रस्ट परिसर में मंगलवार को उदयपाल झाझडिय़ा की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें दूषित जल के विरुद्ध राज्यव्यापी आंदोलन का सूत्रपात किया गया। बैठक में पहुंचे सभी राजनीतिक व सामाजिक दलों से जुड़े नागरिकों ने प्रस्ताव पारित किया कि लंबे समय से क्षेत्र में दूषित जल से फैल रहे कैंसर रोग की रोकथाम के लिए राजनीतिक व प्रशासनिक उदासीनता अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इस आंदोलन को बड़े स्तर पर शुरू कर सरकारी अधिकारियों को जगाया जाए। इस बैठक में उदयपाल झाझडिय़ा, पार्षद प्रियंक भाटी, श्रवण पारीक, मनीराम सेतिया, विजय मिढ़ा, जीपी सिंह अरनेजा, कृष्ण खीचड़, मोहन लाल गुप्ता आदि शामिल हुए।

आठ को शिष्टमंडल जाएगा जयपुर
समिति के संयोजक महेश पेड़ीवाल व प्रवक्ता रमजान अली चोपदार के नेतृत्व एक प्रतिनिधिमंडल 8 अप्रेल को राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड जयपुर के सचिव एवं आयुक्त से मिलकर नहरों में आ रहे दूषित जल को रोकने के लिए ज्ञापन देंगे।

Krishan chauhan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned