scriptOfficer army to check quality, contractors have fun, contractors have | निर्माण कार्यो की गुणवत्ता जांचने के लिए अफसर फौज, ठेकेदारों की मौज | Patrika News

निर्माण कार्यो की गुणवत्ता जांचने के लिए अफसर फौज, ठेकेदारों की मौज

Officers to check the quality of construction works Officers to check the quality of construction works, Contractors' fun, Contractors' fun- नगर परिषद, यूआईटी और पीडब्ल्यूडी में अभियंताओं के 63 में से 45 पद रिक्त

श्री गंगानगर

Published: January 14, 2022 05:33:57 pm

श्रीगंगानगर. जिला मुख्यालय के एक वार्ड से लेकर दूर दराज इलाके तक हर विभाग खासतौर पर नगर परिषद, नगर विकास न्यास और सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से होने वाले निर्माण कार्यो की जांचने के जिम्मेदार अभियंताओं की फौज एकाएक गायब हो गई हैं।
 construction works
निर्माण कार्यो की गुणवत्ता जांचने के लिए अफसर फौज, ठेकेदारों की मौज,निर्माण कार्यो की गुणवत्ता जांचने के लिए अफसर फौज, ठेकेदारों की मौज
फील्ड में रहकर निर्माण कार्यो की गुणवत्ता की जांचने वाले इन अफसरों के खाली पद इतने अधिक हो गए हैं कि जांच की प्रक्रिया कागजों तक उलझ कर रह गई हैं। इस कारण लोग बार बार सडक़ों, पुलिया, भवन निर्माण कार्यो की गुणवत्ता बरतने का आरोप लगा रहे हैँ। इसका अप्रत्यक्ष रूप से फायदा ठेकेदारों को मिल रहा हैं।
आरोप-प्रत्यारोप की शिकायत पर जांच शुरू होती है उससे पहले ही संबंधित ठेका फर्म भुगतान पहुंच जाता हैं। अभियंताओं के खाली पदों को लेकर आ रही समस्याओं के संबंध में उच्चाधिकारी और इलाके के जिम्मेदार जनप्रतिनिधि भी वाकिफ है लेकिन जानबूझकर अनजान बने हुए हैं।
यही वजह है कि ठेका फर्मो को भ्रष्टाचार की खुली छूट जैसा अधिकार मिल चुका हैं। नगर परिषद, यूआईटी और पीडब्ल्यूडी में अभियंताओं के 63 में से 45 पद रिक्त पड़े हैं, महज 18 अभियंता ही कार्यरत हैं।
विभिन्न अधिकारियों की माने तो अधिशाषी अभियंता, सहायक अभियंता, कनिष्ठ अभियंताओं के पद लंबे समय से खाली हैं। इसे भरने के लिए सरकार ने गंभीरता नहीं दिखाई हैं।

इस कारण खाली पड़े इन पदों की वजह से फील्ड में अफसर दिखाई नहीं देते और ठेकेदार के कारीगरों ने जैसा निर्माण करवा दिया उस पर कार्यवाहक अभियंता अपनी रिपोर्ट पर मुहर लगाकर बिल पारित करने की अनुशंषा कर देता हैं। गुणवत्ता की जांच सिर्फ जनप्रतिनिधियों के भाषणों तक सीमित होकर रह गई हैं।
जिला मुख्यालय पर नगर परिषद में एक्सईए, एईएन और जेईएन के 12 में से सिर्फ दो ही अभियंता कार्यरत हैं, शेष दस पद खाली पड़े हैं। इसी प्रकार यूआईटी में चौदह पदों में से छह कार्यरत है और आठ रिक्त पद हैं। वहीं पीडब्ल्यूडी में 37 में से दस ही अभियंता कार्यरत है जबकि 27 पद खाली पड़े हैँ।
अभियंताओं के खाली पदों का सरकार के बजट पर असर पड़ रहा हैं। विशेषज्ञों की माने तो किसी भी सडक़ या भवन निर्माण या पुलिया निर्माण या पुल निर्माण के दौरान ठेका फर्म संबंधित एजेंसी के समक्ष शपथ पत्र देता है कि इस निर्माण की गारंटी दो या तीन या पांच या छह साल की होगी .
लेकिन संबंधित निर्माण होने के एक साल बाद सडक़ टूट जाएं या क्षतिग्रस्त हो जाएं या भवन निर्माण के बाद यदि खराबी आएं तो खाली पद होने के कारण संबंधित ठेका फर्मो की फाइलों का गहन अध्ययन नहीं किया जाता, इस कारण ठेके फर्मो या ठेका कंपनी पर पैनल्टी या जिम्मेदारी का पहलू छूट जाता हैं। यदि समय रहते अभियंता संबंधित फाइल को देखे या अध्ययन करें तो क्षतिग्रस्त होने पर पुन:निर्माण ठेका कंपनी से कराया जाता हैं। इसके लिए संबंधित विभाग को बजट खर्च नहीं करना पड़ता।
.............

नगर परिषद श्रीगंगानगर

पद का नाम स्वीकृत कार्यरत खाली पद

एक्सईएन 01 00 01

एईएन 05 01 04

जेईएन 6 01 05

.......

नगर विकास न्यास श्रीगंगानगर
पद का नाम स्वीकृत कार्यरत खाली पद

एक्सईएन 01 01 00

एईएन 04 02 02

जेईएन 09 03 06

...............

पीडब्ल्यूडी श्रीगंगानगर

पद का नाम स्वीकृत कार्यरत खाली पद
एक्सईएन 04 03 01

एईएन 19 07 12

जेईएन 14 00 14

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दम5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामUP Assembly Election 2022: योगी इफेक्ट को रोकने के लिए पूर्वांचल की इस सीट से चुनाव लड़ेंगे अखिलेश?बिपिन रावत के भाई कर्नल विजय रावत बीजेपी में होंगे शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनावगोवा में अमित पालेकर होंगे 'आप' का सीएम चेहरा, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.